पटना [राज्य ब्यूरो]। परिवहन महकमे में प्रतिदिन के कामकाज की मॉनीटरिंग अब एप से की जाएगी। जिला परिवहन अधिकारियों से लेकर अन्य अफसरों को रोजमर्रा की राजस्व वसूली से लेकर अन्य गतिविधियों की रिपोर्ट भी वाट्सएप के जरिए शासन को भेजनी होगी।

विभाग की प्रदेशस्तरीय समीक्षा के दौरान परिवहन मंत्री संतोष निराला ने मंगलवार को विश्वेश्वरैया भवन स्थित सभागार में एप लांच किया। इस दौरान परिवहन सचिव संजय अग्रवाल और आयुक्त अनुपम कुमार भी मौजूद थे।

परिवहन सचिव ने समीक्षा के दौरान राजस्व वसूली में लचर कार्यप्रणाली को लेकर अधिकारियों को सख्त चेतावनी दी। कहा कि अभियान चलाकर ओवरलोडिंग पर रोक लगाएं। यही नहीं, ओवरलोडिंग के मामले में किसी तरह की हीलाहवाली बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

विभागीय कार्य को गति देने के लिए राज्य के सभी जिला परिवहन पदाधिकारियों (डीटीओ) और अन्य अधिकारियों को बैठक के दौरान तकनीक का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने के लिए प्रशिक्षण दिया गया।

आरटीए की बैठक को लेकर शासन सख्त

क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार की बैठक प्रतिमाह नहीं आयोजित करने को लेकर मंत्री ने नाराजगी जताई। उन्होंने बैठक की अनदेखी के कारण वाहन मालिकों और आम लोगों को होने वाली परेशानी की ओर भी अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट किया।

गाडिय़ों की जांच रिपोर्ट भी दी जाएगी ऑनलाइन

अब नई गाड़ी खरीदने वाले लोगों को अपनी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए जिला परिवहन कार्यालय का चक्कर नहीं लगाना होगा। डीलर प्वाइंट से नई गाडिय़ों का रजिस्ट्रेशन होगा। डीलर प्वाइंट गाडिय़ों का रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन के माध्यम से वाहन-4 सॉफ्टवेयर पर अपलोड करेंगे। आम लोगों को डीलर प्वाइंट से ही यह सुविधा मिलेगा।

नहीं होगी बैकलॉग की समस्या

विशेष त्योहारों, खासकर धनतेरस, दीपावली, दुर्गापूजा और लग्न में गाडिय़ां अधिक संख्या में लोग खरीदते हैं। इस दौरान खरीदी जाने वाले गाडिय़ों का रजिस्ट्रेशन समय पर नहीं हो पाता है। गाडिय़ों का नंबर और स्मार्ट कार्ड लेने के लिए लोगों को जिला परिवहन कार्यालय का चक्कर लगना पड़ता था। लेकिन, अब डीलर प्वाइंट से ही ऑनलाइन गाडिय़ों का रजिस्ट्रेशन होने से कागजी जांच करने की जरूरत समाप्त होगी।

Posted By: Ravi Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप