पटना [राजेश ठाकुर]। पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर लालू प्रसाद यादव के परिवार ने कभी भी जीत दर्ज नहीं की है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के रामकृपाल यादव ने राजद की मीसा भारती को हराया था। जबकि, इसके पहले 2009 में जदयू के रंजन प्रसाद यादव ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को हराया था। इस बार फिर राजद से लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती व भाजपा से रामकृपाल यादव ताल ठोक रहे हैं। 
2008 में पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र आया अस्तित्व में बिहार का पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र वर्ष 2008 में अस्तित्‍व में आया है। इसके पहले यह पटना लोकसभा क्षेत्र में शामिल था। नए परिसीमन लागू होने के बाद पटना लोकसभा क्षेत्र दो टुकड़ों में बंट गया। एक बना पाटलिपुत्र तो दूसरा पटना साहिब। पाटलिपुत्र में छह विधान सभा सीटें दानापुर, मनेर, फुलवारी (सुरक्षित), मसौढ़ी (सुरक्षित), पालीगंज और विक्रम विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। 

2009 में यहां से लड़े थे लालू 
नया परिसीमन लागू होने के बाद वर्ष 2009 में यहां पहला लाेकसभा चुनाव हुआ। इसमें राजद से लालू प्रसाद यादव खड़ा हुए तो जदयू से रंजन प्रसाद यादव ने ताल ठोकी। कांटे की लड़ाई में रंजन प्रसाद यादव ने लालू प्रसाद यादव को 23 हजार 471 वोटों से पराजित किया। रंजन को 2 लाख 69 हजार 228 वोट मिले, जबकि लालू को 2 लाख 45 हजार 757 वोट आए। इसमें तीसरे नंबर पर सीपीआई एमएल के उम्‍मीदवार रामेश्‍वर प्रसाद रहे। रामेश्‍वर प्रसाद 36837 वोट मिले थे। 

2014 में लालू की बेटी मीसा हुईं पराजित 
सजायाफ्ता होने के बाद लालू यादव को चुनाव लड़ने से अयोग्‍य ठहराया गया। इसके बाद रामकृपाल यादव पाटलिपुत्र से चुनाव लड़ना चाहते थे। उस समय रामकृपाल यादव राजद में ही थे। लेकिन मीसा की जिद के कारण रामकृपाल यादव को टिकट नहीं मिला, त‍ब वे भाजपा में शामिल हो गए और मैदान में उतरे। मीसा भारती हार गर्इं। भाजपा से चुनाव लड़ रहे रामकृपाल यादव ने मीसा को 40 हजार 322 वोटों से हराया। रामकृपाल को 3 लाख 83 हजार 262 तथा मीसा को 3 लाख 42 हजार 940 वोट आए। इस चुनाव में सिटिंग एमपी रंजन यादव 97228 वोट लाकर तीसरे स्‍थान पर रहे। 

एक बार आमने-सामने मीसा व रामकृपाल 
अब एक बार फिर राजद की मीसा भारती और भाजपा सांसद सह केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव आमने-सामने हैं। स्‍थानीय मुद्दे बनाम राष्‍ट्रवाद की लड़ाई है। रामकृपाल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह चुनावी सभाएं कर चुके हैं, जबकि मीसा के लिए राहुल गांधी ने 16 मई को सभा की। साथ ही मीसा के लिए दोनों भाई तेजप्रताप व तेजस्‍वी के अलावा मां राबड़ी देवी भी प्रचार में लगी रहीं। बहरहाल, रविवार को मतदान हो गया। पाटलिपुत्र में 57.26 फीसद वोट पड़े। अब 23 मई को मतगणना का इंतजार है। उस दिन पता चलेगा कि मीसा या रामकृपाल, किसकी झोली में गई यह सीट।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Thakur