पटना, जेएनएन। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला से जुड़े डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में अपना बयान दर्ज कराने के लिए लंबे समय बाद रिम्स अस्पताल से बाहर निकले और सुनवाई के लिए रांची स्थित सीबीआइ कोर्ट लाए गए।

लंबे समय बाद अस्पताल से बाहर निकलते ही लालू ने ट्वीट कर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला। नीतीश कुमार का बिना नाम लिए ही लालू ने उपर 24500 करोड़ लूटने और जनता को दिग्भ्रमित करने का आरोप लगाया। इसके साथ ही उन्होंने जल-जीवन-हरियाली यात्रा पर तंज कसते हुए उसे एक नया नाम भी दिया।

लालू प्रसाद यादव के ट्विटर हैंडल से गुरुवार को ट्वीट किया गया ''छल, छीजन और घरियालीपन' यात्रा वाले महानुभाव ने गरीब राज्य के नौजवानों, किसानों और कर्मचारियों का 24500 करोड़ लूट लिया। ऊपर से सरकारी संसाधनों की बर्बादी एवं करोड़ों रुपये मानव श्रृंखला की नौटंकी पर खर्च कर सुशासनी भ्रष्टाचार को वैध बनाने व जनता को दिग्भ्रमित करने की कोशिश है।'

लालू परिवार ने एक साथ नीतीश कुमार पर बोला हमला

नागरिकता कानून और एनपीआर के मुद्दे पर गुरुवार को लालू परिवार ने राज्य एवं केंद्र सरकार पर हमला बोला। शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने की। उन्होंने भोजपुरी में ट्वीट करके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जनता को बेवकूफ बनाने का आरोप लगाया। राबड़ी के आरोपों का राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने भी ट्वीट करके समर्थन किया। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी पीछे नहीं रहे। उन्होंने भी बयान जारी कर नीतीश कुमार पर जनता को भ्रमित करने का आरोप लगाया। 

राबड़ी ने नागरिकता कानून को काला कानून बताया और लिखा कि देश जल रहा है और नीतीश कुमार जनता को बेवकूफ बना रहे हैं। जनता सब जान चुकी है। लालू ने राबड़ी के ट्वीट को री-ट्वीट किया। उन्होंने जल-जीवन-हरियाली पर तंज कसते हुए लिखा कि छल, छीजन और घडिय़ालीपन यात्रा करार दिया और मानव शृंखला के नाम पर नौटंकी करने का आरोप लगाया। लालू-राबड़ी ने कहा कि अब केंद्र एवं राज्य सरकार के झांसे में जनता नहीं आने वाली है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस