भागलपुर, कौशल किशोर मिश्र। खुफिया एजेंसियां पटना में नौ जनवरी को दबोचे गए दाऊद के गुर्गे एजाज लकड़ावाला का कोलकाता कनेक्शन खंगाल रही है। बताया जा रहा है कि दो हजार रुपये के जाली नोट को डी कंपनी के गुर्गे पाकिस्तान से बांग्लादेश, नेपाल और फिर उसे भारतीय सीमा में प्रवेश करा रहे हैं। इसे लोकल हवाला के धंधे में लगे सफेदपोश पटना, भागलपुर, कोलकाता और बेंगलुरु समेत देश के अन्य जगहों में फैला रहे हैं।

खुफिया सूत्रों की मानें तो कोलकाता की एक ट्रेवल एजेंसी के दाऊद गिरोह से जुड़े होने की बात कही जा रही है। उस ट्रेवल एजेंसी के जरिये नेपाल से कोलकाता आए दाऊद के दो गुर्गों को बीते माह बैंकाक भेजे जाने का अंदेशा है। खुफिया अधिकारियों का दल इस बात की भी पड़ताल कर रहा है कि वर्ष 2019 के मई में नेपाल में पकड़ी गई जाली नोटों (भारतीय) की बड़ी खेप भारत में कहां आनी थी। तब सात करोड़ के जाली नोटों के साथ दाऊद के छह गुर्गों को गिरफ्तार किया गया था। 

यह जानकारी मिली है कि पूर्णिया, किशनगंज, पटना, भागलपुर, कोलकाता और बेंगलुरु में लोकल हवाला एजेंट दो हजार के जाली नोट खपा रहे हैं। लकड़ावाला की पटना में गिरफ्तारी और लोकल हवाला एजेंटों के जरिये जाली नोट खपाने की कड़ी को खुफिया एजेंसी जोड़ रही है। 

बता दें कि गैंगस्‍टर एजाज लकड़ावाला को पिछले दिनों पटना से गिरफ्तार किया गया था। मुंबई की क्राइम ब्रांच ने बिहार पुलिस के सहयोग से उसे दबोचा था। गिरफ्तारी के समय लकड़ावाला दरभंगा जा रहा था, लेकिन उसकी चालाकी नहीं चली। बताया जा रहा है कि इन दिनों लकड़ावाला नेपाल में रह रहा था, लेकिन उसकी पोल तब खुल गयी, जब पिछले माह लकड़ावाला की बेटी सोनिया मुंबई में गिरफ्तार की गई थी। बेटी की निशानदेही पर ही एजाज लकड़ावाला को पुलिस पकड़ने में सफल रही। 

 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस