Move to Jagran APP

Bihar Politics: 'मुस्लिम महिलाओं को भी मिलेगा गुजारा भत्ता', सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सियासत तेज; JDU का आया जवाब

Bihar Political News Today सुप्रीम कोर्ट द्वारा तलाकशुदा मुस्लिम महिलाओं के हक में सुनाए गए फैसले पर बिहार में सियासत तेज हो गई है। जेडीयू नेता केसी त्यागी ने इस संवेदनशील मामले पर अपना पक्ष रखा है। उन्होंने कहा कि कोई भी फैसला जाति और धर्म के आधार पर नहीं होना चाहिए। हालांकि केसी त्यागी ने मुस्लिम महिलाओं के हक में फैसले को सही बताया।

By Sanjeev Kumar Edited By: Sanjeev Kumar Wed, 10 Jul 2024 03:22 PM (IST)
Bihar Politics: 'मुस्लिम महिलाओं को भी मिलेगा गुजारा भत्ता', सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सियासत तेज; JDU का आया जवाब
मुस्लिम महिलाओं को गुजारा भत्ता देने के मामले पर जेडीयू की प्रतिक्रिया (जागरण)

डिजिटल डेस्क, पटना। Bihar News: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आज यानी 10 जुलाई को मुस्लिम महिलाओं के हक में अहम फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि धारा 125 के तहत अब मुस्लिम महिला भी तलाक के बाद गुजारा भत्ता पाने की हकदार है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह कानून हर धर्म की महिलाओं के लिए है।

वहीं, अब सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद सियासत तेज हो गई है। कई राजनीतिक दलों की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। इसी क्रम में जेडीयू की तरफ से बड़ा बयान सामने आया है।

जेडीयू नेता केसी त्यागी का आया बयान

जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। जाति या धर्म के आधार पर फैसले नहीं होने चाहिए। लेकिन हम मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का समर्थन करते हैं।

पढ़ें क्या है सीआरपीसी की धारा 125? (crpc 125)

बता दें कि सीआरपीसी की धारा 125 के तहत परिवार के सभी सदस्यों के भरण-पोषण को लेकर जानकारी दी गई है। इस धारा के अनुसार पति, पिता या संतान पर आश्रित पत्नी, मां-बाप या बच्चे गुजारे-भत्ते का दावा तभी कर सकते हैं, जब उनके पास आय का कोई दूसरा साधन न हो।

ये भी पढ़ें

Pappu Yadav: 'मैं मुसलमान भाइयों के पैर पकड़ता हूं...', रुपौली पर पप्पू यादव ने खेल दिया दांव, क्या होगा खेला?

Prashant Kishor: '2025 चुनाव के बाद नीतीश कुमार...', प्रशांत किशोर के दावे से सियासी पारा हाई; अब क्या करेगी JDU?