पटना [जेएनएन]। पूर्व मंत्री एवं जदयू विधायक श्याम रजक पर बेउर थाने के प्रभारी एसआइ बीके चौधरी ने अभद्र भाषा का इस्तेमाल और नौकरी से बर्खास्त कराने की धमकी देने का आरोप लगाया है। विधायक ने पहले एसआइ के आरोप बेबुनियाद बताते हुए कुछ भी बोलने से इन्कार किया ।
फिर शुक्रवार की शाम विधायक अपने समर्थकों के साथ बेउर थाने पहुंच गए और कहा कि यदि वह दोषी हैं तो उन्हें गिरफ्तार किया जाए। मामला गर्माता देख डीएसपी रामाकांत प्रसाद पहुंचे। विधायक देर रात तक थाने में धरने पर बैठे रहे।

विधायक आइजी या डीआइजी को बुलाने की मांग कर रहे थे। इस बीच एसएसपी मनु महाराज बेउर थाने पहुंचे। मामले की जांच का आदेश देते हुए दारोगा बीके चौधरी को लाइन हाजिर कर दिया। मामला शांत हुआ तो विधायक भी लौट गए। थाने में करीब तीन घंटे तक हाई वोल्टेज ड्रामा चला। जिसके बाद सच्चाई सामने आने पर आरोपी दारोगा को लाईन हाजिर किया गया।

दरअसल, बेउर थाने के थानेदार आलोक कुमार अवकाश पर हैं। बीके चौधरी उनके प्रभार में हैं। चौधरी के अनुसार शुक्रवार की सुबह 7:53 बजे में विधायक का फोन सरकारी मोबाइल पर आया। फोन रिसीव करते ही विधायक ने ढनढनाचक की एक जमीन को लेकर पैरवी की।

बातचीत के क्रम विधायक उखड़ गए और अभद्र भाषा के साथ नौकरी से बर्खास्त कराने की धमकी देने लगे। एसआइ बीके चौधरी ने लिखित शिकायत देने की बात कही। इस बीच छुट्टी से लौटे थानेदार आलोक कुमार ने बताया एसआइ ने विधायक से बातचीत की रिकॉर्डिंग साक्ष्य के तौर दी है।

हालांकि थाने का कोई भी पदाधिकारी इस बात को स्वीकार नहीं कर रहा। जब ऑडियो वायरल हुआ तो शाम को विधायक अपने समर्थकों के साथ बेउर थाने पहुंच गए और खुद की गिरफ्तारी की मांग करने लगे।  

विधायक ने की थी पैरवी

थानेदार आलोक कुमार ने बताया कि ढनढनाचक में सुशीला देवी और पप्पू सिंह के बीच एक जमीन विवाद चल रहा था। जिसपर पहले से धारा 107 लगाई जा चुकी है। इसी जमीन को लेकर विधायक ने फोन किया था। 


मामले की जानकारी देते हुए श्याम रजक ने बताया कि वे जनप्रतिनिधि हैं। रोज उनके पास लोग फरियाद लेकर आते हैं। सुनता हूं और पैरवी करता हूं। यह मेरा काम है। उन्होंने बताया कि सुबह में धनधना चक की कुछ महिलाएं आईं थीं। जमीन संबंधित मामला था। सच है कि मैंने बेउर के थानेदार आलोक कुमार को कॉल कर शिकायत देखने को कहा था। 
श्‍याम रजक कहते हैं कि इसके बाद उन्होंने पटना के आईजी नैय्यर हसनैन खान से बात की। उन्होंने पूरी बात सुनी और कहा कि परेशान महिलाओं को एसएसपी के पास भेज दीजिए, मैं देखने को कह देता हूं। इसके बाद महिलाएं एसएसपी के पास गईं।
एसएसपी से सबों की मुलाकात हुई। एसएसपी ने थाने को फोन किया, तो बेउर थाना ने नई कहानी शुरू कर दी। कहा कि मैंने थाने को फोन कर जमीन कब्जा के लिए कहा था और काम नहीं करने पर तबादला कराने की धमकी दी थी। इस मामले में मेरे खिलाफ थाने में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।
जदयू विधायक ने कहा कि हम अपने खिलाफ लगे आरोपों को गलत मानते हैं। फिर भी पुलिस ने शिकायत दर्ज की है। कानून का सिपाही हूं, गिरफ्तारी देने को थाना पहुंचा हूं। पुलिस मुझे गिरफ्तार करे, आगे सच्चाई जांचने को कोर्ट तो है ही।
 

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस