हाजीपुर, जागरण संवाददाता। हाजीपुर सदर अस्‍पताल के कैदी वार्ड में बाहर से लड़कियां मंगाई जाती थीं। सजायाफ्ता कैदी इलाज के नाम पर अस्‍पताल में भर्ती होकर रंगरेलियां मनाते थे। इस बात का पर्दाफाश गुरुवार अल सुबह तब हुआ जब पुलिस ने लूट की मोबाइल के लोकेशन पर कैदी वार्ड में धावा बोला। यहां बाहर से लाई गई लड़की के अलावा कई अन्‍य को हिरासत में लिया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। मामले में वैशाली  पुलिस कप्तान मनीष ने कहा है कि यह काफी गंभीर मामला है। पूरे मामले की गहन जांच की जा रही है। जो भी दोषी होंगे, उनपर सख्‍त कार्रवाई की जाएगी। जांच के बाद इस मामले में विस्तृत जानकारी दी जाएगी।

(जांच के लिए अस्‍पताल पहुंचे एसपी और अस्‍पताल उपाधीक्षक। )

वार्डकर्मियों की मिलीभगत से चल रहा था खेल

बताया जाता है कि कैदी वार्ड के कर्मियों की मिलीभगत से सजायाफ्ता कैदी बाहर से मंगवाई गई युवती के साथ रंगरेलियां मना रहा था। इधर लूट की एक मोबाइल के लोकेशन की जांच करते पहुंचे करताहां के थानाध्‍यक्ष प्रवीण कुमार जब कैदी वार्ड पहुंचे तो वहां का नजारा देख सन्‍न रह गए। उन्‍होंने इसकी सूचना सदर एसडीपीओ को दी। एसडीपीओ ओमप्रकाश ने गुरुवार की अल सुबह भारी पुलिस बल के साथ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में छापेमारी की। वहां से पांच पुलिसकर्मी, एक स्वास्थ्य कर्मी व एक लड़की को हिरासत में लिया है। पुलिस सभी से से पूछताछ कर रही है। हालांकि फिलहाल एसडीपीओ ओमप्रकाश ने अभी इस मामले में कुछ बताने से इनकार किया है। घटना की गंभीरता को देखते हुए एसपी मनीष, सदर अस्‍पताल के उपाधीक्षक डा. एसके वर्मा भी अस्‍पताल पहुंचे। एसपी ने बताया कि मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है। 

देह व्‍यापार का मामला सामने आने के बाद सनसनी फैल गई है। अब पुलिस इसमें शामिल धंधेबाजों की तलाश भी कर रही है। कितने दिनों से यह खेल चल रहा था और कौन कालगर्ल को यहां बुलाता था, उसकी खोज में पुलिस लग गई है।  फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।  

Edited By: Vyas Chandra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट