पटना [जेएनएन]। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने रविवार को एक निजी टीवी चैनल पर साफ कहा कि हम दोनों भाइयों के बीच ऐसा कुछ भी खटपट नहीं जिसके बारे में कुछ कहा जा सके। तेज प्रताप ने कहा कि हमें तो बहुत खुशी मिलेगी कि मेरा छोटा भाई पीएम तक बन जाएं। मेरा आशीर्वाद हमेशा उसके सिर पर रहेगा। हालांकि उन्होंने यह भी कहा पार्टी में जो काम करते है उनको तरजीह दी जानी चाहिए। उन्होंने साफ कहा कि परिवार में झगड़े की सारी खबरें गलत हैं, ऐसा कुछ नहीं है। तेजस्वी और साहेब (लालू) और मैडम (राबड़ी) के खिलाफ मेरे पास कुछ नहीं है, लेकिन पार्टी में कुछ वरिष्ठ नेता युवा कार्यकर्ताओं को किनारे कर रहे हैं जो ठीक नहीं है।

उन्हें शिकायत है तो सिर्फ पार्टी में कुछ लोगों से है। उन्होंने कहा कि पार्टी में छात्र राजद के कार्यकर्ताओं की बात को नहीं सुना जाता है जबकि पार्टी में वही छात्र बूथ पर खड़ा होकर काम करते हैं। तेजप्रताप ने कहा कि पार्टी के नेता धूप में नही जाते हैं लेकिन कार्यकर्ता पूरी मेहनत के साथ काम करते है। लालू के बड़े बेटे ने कहा कि कौन लोग साजिश कर रहे हैं उनका नाम भी सामने आने लगा तो ऐसे सभी लोगों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाएंगे। उन्होंने कहा कि कुछ लोग भाई-भाई को लड़वाना चाहते हैं। राजद में कुछ असामाजिक तत्व आ गए है। मेरी बात को पार्टी के नेता नहीं सुनते है।

गौर हो कि तेजप्रताप ने शनिवार को ही स्पष्ट कर दिया था कि छोटे भाई से कोई मनमुटाव नहीं है। तेजप्रताप ने कहा कि तेजस्वी मेरा कलेजा का टुकड़ा है। राजद नेता ने कहा कि तेजस्वी, मीसा और राबड़ी देवी और मेरा नाम लेकर पार्टी के लोग गलत काम करते हैं। उन्होंने कहा कि मैं पार्टी का सम्मान करता हूं। तेजस्वी को गद्दी दे कर मैं द्वारिका चला जाऊंगा लेकिन मैं कही भी जाउंगा राजनीति करूंगा। उल्लेखनीय है कि शनिवार को आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव ने राजनीति से मोह भंग होने के संकेत दिए थे। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि मेरा सोचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस