पटना, जेएनएन। राजधानी के आलमगंज में सोमवार की रात मूर्ति विसर्जन को लेकर हुई हिंसक झड़प के तीसरे दिन बुधवार को स्थित सामान्य हो गई है। सुबह खुद हिंदू-मुस्लिम हाथ से हाथ मिलाकर लोगों से शांति की अपील करते नजर आए। पटना सिटी के सुलतानगंज थाना क्षेत्र से विभिन्न धर्म के लोग बुधवार की सुबह से ही एक जुट होकर निकले। इस दौरान उनके हाथों में शांति का संदेश देतीं तख्तियां भी थीं।

जुलूस के दौरान बड़ी संख्या में पुरुष और महिलाओं के साथ बच्चे थे। उनके हाथों में ली हुई तख्तियों में हिंदू, मुस्लिम, सिख इसाई सब हैं भाई-भाई, हमारी एकता देश की एकता, पड़ोसी की सुरक्षा हमारा दायित्व, साथ जीना साथ मरना आदि संदेश लिखे हुए थे। अशोक राजपथ होते हुए गायघाट पहुंचे लोगों ने शांति और सद्भाव से रहने की अपील की।

सोमवार की देर रात हुआ था बवाल

बताते चलें कि सोमवार की देर रात मूर्ति विसर्जन को लेकर हुई हिंसक झड़प के बाद इलाके में तनाव का माहौल था। मंगलवार को दिन में लगभग 11 बजे कुछ असमाजिक तत्वों ने गायघाट के पास सड़क जाम कर दी और बबुआगंज की ओर बढऩे लगे। यहां पुलिस बल को देखकर वे दौडऩे लगे जिससे इलाके में भगदड़ की अफवाह फैल गई। इसके बाद मोहल्ले के लोग सड़क पर आ गए। पुलिस ने सभी को समझा-बुझाकर घर के अंदर भेजा। डीएम कुमार रवि ने कहा कि असमाजिक तत्वों पर नजर रखी जा रही है।

बंद रहीं दुकानें, सड़क पर सन्नाटा

सोमवार को हुई घटना का असर मंगलवार को भी देखने को मिला था। गायघाट से महेंद्रू तक 70 फीसद दुकानें बंद रहीं। सुबह 11 बजे से शाम तक अशोक राजपथ पर गाडिय़ों का परिचालन भी बंद रहा। अफवाहों को सुनकर सहमे लोग खुद भी बाहर निकलने से बचते दिखे। हालांकि पुलिस-प्रशासन हर समय भरोसा दिलाती रही कि स्थिति सामान्य है।

फतुहा में मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में झड़प, आगजनी

फतुहा थाना क्षेत्र में मंगलवार की देर रात मूर्ति विसर्जन को लेकर बाकीपुर गोरख और मिर्जापुर नोहटा मोहल्ला के युवकों के बीच हिंसक झड़प हो गई। डीजे में गाना बजाने को लेकर हुए बवाल में दोनों गुटों में जमकर ईंट-पत्थर चले। थोड़ी ही देर में इलाका रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। पथराव में कई लोग जख्मी हो गए। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस स्थिति को नियंत्रित करने में जुट गई। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर उपद्रवी को खदेड़ दिया।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप