श्रवण कुमार, पटना। बिहार में रहने वालों की आंखों का धुंधलापन सरकार दूर करेगी। पचास की उम्र पार कर चुके गरीबों की आंखों पर समाज कल्याण विभाग मुफ्त में चश्मा चढ़ाएगा। मुख्यमंत्री उज्ज्वल दृष्टि अभियान के नाम से शुरू की जाने वाली राज्य सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना को हर प्रखंड में बुनियादी केंद्रों के जरिए क्रियान्वित किया जाना है। अभी योजना के आरंभ के लिए तारीख तय नहीं हुई है। पहले 15 अगस्त और फिर छठ के बाद इसकी शुरुआत की संभावना जताई गई थी, पर अब तक चश्मा वितरण प्रारंभ नहीं किया जा सका है।

‘मुख्यमंत्री उज्ज्वल दृष्टि अभियान’ का दिखेगा स्टिकर

सूत्र बताते हैं कि अभी चश्मे के हर डिब्बे पर ‘मुख्यमंत्री उज्ज्वल दृष्टि अभियान’ का स्टिकर चिपकाने का काम चल रहा है। इस स्टीकर में ‘आगे बढ़ता रहे बिहार ’ स्लोगन के साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तस्वीर भी छपी हुई है। ‘हमारी पहचान हमारा सम्मान’ स्लोगन भी समाज कल्याण विभाग का लोगो के साथ स्टिकर में अंकित है।

लंबे समय से चल रही तैयारी

सूत्र बताते हैं कि इस स्टिकर को चिपकाने का कार्य पूर्ण हो जाने पर ही अभियान आरंभ होगा। तैयारी है कि लाभार्थी की नजर चश्मा पहनते ही स्टीकर पर पड़े। ‘मुख्यमंत्री उज्ज्वल दृष्टि अभियान’ को समाज कल्याण विभाग अपना ब्रांड वर्क बनाना चाह रहा है। चश्मे के डिब्बे के स्टिकर पर मुख्यमंत्री की तस्वीर डालने का उद्देश्य अभियान को लोकप्रिय बनाना है। इस अभियान के लिए लंबे समय से तैयारी चल रही है।

पहले चरण में तीन लाख चश्मा वितरण का लक्ष्य

विभाग ने बेहद ही कम मूल्य पर चश्मे की खरीद की है। विभाग को प्लस पावर वाले चश्मे की कीमत मात्र 67 रुपये और बाइफोकल की कीमत मात्र 234 रुपये पड़ी है। चश्मे का फ्रेम नन ब्रेकेबल होगा। विभाग का अनुमान है कि राज्य भर में लगभग 78 लाख लोग पचास की उम्र के पार हैं। इनमें से बड़ी संख्या में लोगों की आंखों में रोशनी की समस्या है।

प्रथम चरण में तीन मिलेगा तीन लाख चश्मा

प्रथम चरण में विभाग द्वारा तीन लाख चश्मा मुफ्त में वितरित किए जाने का लक्ष्य है। प्लस पावर वाला चश्मा हाथों-हाथ दिया जाएगा। बाइफोकल चश्मा 15 दिनों के बाद दिया जाएगा। प्लस वन पावर के 11,400, प्लस वन प्वाइंट फाइव के 34,200, प्लस टू के 45, 600 तथा प्लस टू प्वाइंट फाइव और प्लस थ्री पावर के 68, 400 चश्मे फिलहाल तैयार किए जा रहे हैं। लगभग 28,500 फ्रेम भी तैयार हैं, जिसमें बाइफोकल या अन्य पावर के शीशे आवश्यकता के अनुसार लगाए जा सकेंगे।

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस