पटना [जेएनएन]। सूबे के गन्ना मंत्री मो. खुर्शीद आलम धमकी और रंगदारी मांगे जाने को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं। शनिवार को चौथी बार उनसे रंगदारी की मांग हुई है। इस बार फोन से दस लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई। इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने रविवार को एक महिला को झाझा से गिरफ्तार किया गया है। महिला के पति ने बताया कि उसकी पत्‍नी का दूसरे के साथ अवैध संबंध है। उसने मुझे फंसाने के लिए मंत्री से रंगदारी मांगी।

दरअसल, शनिवार को एक व्यक्ति ने मंत्री से 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी। पैसे नहीं देने पर उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई थी। इस संबंध में मंत्री ने पटना के कोतवाली थाने में मामला दर्ज कराया। पटना के साइबर क्राइम ब्रांच के पदाधिकारियों की पड़ताल में पता चला कि एयरसेल के नंबर से रंगदारी मांगी गई है। जिस मोबाइल नंबर से रंगदारी मांगी गई, वह नंबर धमना गांव की जूली देवी का है।

जूली देवी सोनू की पत्नी है। यह नंबर 21 अक्टूबर 2016 को चालू किया गया था। झाझा थानाध्यक्ष सिद्धेश्वर पासवान ने बताया कि पटना पुलिस को मामले की सूचना दे दी गई है। पटना के कोतवाली थाना के एसआइ रामशंकर सिंह ने बताया कि शनिवार को प्रभारी मंत्री ने अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

इधर, गिरफ्तार महिला के पति सोनू साव ने बताया कि उनकी शादी छह साल पूर्व शेखपुरा के गिरिंडा चौक की जूली देवी के साथ हुई थी। वह लुधियाना में मजदूरी करते हैं। पत्नी बराबर घर में विवाद कर मायके भाग जाती थी। सोनू ने आरोप लगाया कि उनकी पत्नी का शेखपुरा के बबलू धरांडी से संबंध है। बबलू दोनों पैरों से दिव्यांग है। जूली देवी ने बताया कि बबलू उसके घर आया था और बैंक में खाता खुलवाने के बहाने उसके आइकार्ड आदि की फोटोकॉपी ले गया। जूली ने बबलू द्वारा ही रंगदारी मांगने की आशंका जाहिर की।

बता दें कि शनिवार की दोपहर गन्ना मंत्री मो. खुर्शीद आलम अपने सरकारी आवास पर थे, तभी एक बजकर 59 मिनट पर उन्हें अज्ञात नंबर से कॉल आया। कॉल करने वाले शख्स ने उनसे दस लाख रुपये की रंगदारी देने की मांग की। साथ ही रकम नहीं मिलने पर जान से मारने की धमकी दी।

इस अज्ञात शख्स से मंत्री को बैंक खाते का नंबर भी दिया, जिसमें उनसे रंगदारी की रकम जमा करने को कहा गया। मंत्री ने अपना मोबाइल खंगाला तो मालूम हुआ कि शुक्रवार की शाम को भी उन्हें रंगदारी के लिए एसएमएस आया था, लेकिन वह देख नहीं पाए।

इससे पहले 11 दिसंबर को उन्हें रंगदारी के लिए कॉल आया था। उस वक्त वह बेतिया जिले में थे। वहीं के थाने में उन्होंने प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इससे पूर्व तीन जून को उन्हें धमकी मिली थी।

इस संबंध में सचिवालय थाने में मामला दर्ज किया गया था। जून से लेकर अब तक उनसे चार बार रंगदारी की मांग की जा चुकी है। हर बार अलग-अलग मोबाइल नंबर से उन्हें कॉल और मैसेज आए थे।

Posted By: Ravi Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस