पटना, जेएनएन। बालू माफियाओं पर पुलिस की नजर पैनी हो गई है। गंगा में बालू खनन करने वालों के खिलाफ गुरुवार को जनार्दन घाट पर छापेमारी की गई। अचानक हुई छापेमारी से वहां भगदड़ मच गई। बुधवार को भी पुलिस ने बालू माफियाओं के खिलाफ अभियान चलाया था। दो दिनों की कार्रवाई में चार नाव के साथ आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया।

लोगों ने किया विरोध

हालांकि गुरुवार को हुई कार्रवाई का 200 से अधिक लोगों ने विरोध किया। मामला तब बिगड़ गया जब जनार्दन घाट पर दो नाव के साथ दो नाविक को गिरफ्तार कर लाया गया। लोगों ने अधिकारियों को घेर लिया और हंगामा करने लगे। बाद में बड़ी संख्या में फोर्स के साथ दीघा थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और विरोध कर रहे लोगों को वहां से हटाया। जिलाधिकारी कुमार रवि और वरीय पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक बुधवार को गंगा घाटों का निरीक्षण कर रही थीं। दीघा घाट के पास बालू खनन होते देखा। भ्रमण के दौरान ही जिला खनन के सहायक निदेशक को फटकार लगाई तथा खनन पर पूर्णरूप से रोक लगाने के लिए छापेमारी का निर्देश दिया।

नाव जब्त कर हुई गिरफ्तारी

जिला खनन सहायक निदेशक के नेतृत्व में खनिज विकास पदाधिकारी एवं खान निरीक्षक ने गंगा नदी में नावों द्वारा खनन एवं परिवहन के विरुद्ध पाटीपुल घाट से कलेक्ट्रेट घाट तक गुरुवार को सघन छापेमारी की। छापेमारी के दौरान 400 घनफीट गंगा बालू से लदी एक काठ की नाव तथा 450 घनफीट गंगा बालू से लदी लोहे की नाव जब्त की गई। इस बाबत दीघा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई तथा दोनों नाविकों को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों की पहचान वैशाली जिला के बिदुपुर प्रखंड के भैरवपुर गांव के राजेश पासवान और जयराम महतो के रूप में हुई।

कई आए पकड़ में

वहीं बुधवार को बाटा घाट से एलसीटी घाट के बीच हुई छापेमारी में एक काठ की नाव को 400 घनफीट लाल बालू एवं एक लोहे की नाव को 450 घनफीट गंगा बालू के साथ जब्त किया गया था। काठ की नाव से पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसमें पहलेजा के राजू चौधरी, जितेन्द्र राय, श्रवण राय, पंकज राय और शकर कुमार शामिल हैं। लोहे की नाव से राघोपुर के रूदल महतो को गिरफ्तार किया गया।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप