पटना [जेएनएन]।  राजधानी में बालू का कृत्रिम अभाव बताकर वेंडर मनमानी कीमत वसूल रहे हैं। जिले में 13.86 करोड़ घन फीट से अधिक बालू का भंडारण  प्रशासन ने कराया है। बिहटा, बिक्रम, मनेर और नौबतपुर में इतने बालू का भंडार है कि राजधानी में छह महीने तक कमी नहीं हो सकेगी।

यदि मकान निर्माण करा रहे हैं तो सरकारी दर (माइनिंग शुल्क) 1350 रुपये प्रति 100 घन फीट के अतिरिक्त ट्रैक्टर का भाड़ा देकर बालू खरीद सकते हैं। हाल यह कि शहर के बाहर सगुना मोड़ पर अधिकतम 3500 रुपये में 100 घन फीट बालू के खरीदार नहीं नहीं मिल रहे हैं। दो-दो दिनों तक बालू लदे वाहन ग्राहक के इंतजार में रोड किनारे खड़े रहते हैं।  

पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि ने 2 जुलाई को बालू भंडार की रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में बिहटा, मनेर, दानापुर, नौबतपुर, पुनपुन और धनरूआ सहित पूरे जिले में 59 जगहों पर करीब 13 करोड़ 86 लाख एक हजार 151 घन फीट बालू का भंडार होने का दावा किया गया है।

पर्याप्त भंडार होने के बावजूद पटना शहरी क्षेत्र में वेंडर अभाव बताकर प्रति ट्रैक्टर पांच से छह हजार रुपये बालू बेच रहे हैं। घर बनाने के लिए यदि बालू की जरूरत है तो सगुना मोड़ पर खरीदारी से जेब पर बोझ कम पड़ सकता है। 

बालू की कीमत तब और अब 

सुबह के 9.00 बजे हैं। दानापुर डीएसपी कार्यालय के सामने से लेकर छावनी परिषद की सीमा तक रोड के दोनों और सिर्फ बालू से लदे ट्रैक्टर खड़े हैं। यहां से 100 मीटर की दूरी पर शताब्दी पार्क के दक्षिण खगौल रोड की ओर भी कमोबेश बालू लदे ट्रक और ट्रैक्टरों की कतार लगी है।

डीएसपी कार्यालय के सामने जितेन्द्र कुमार बालू बिक्री के लिए गाड़ी लगाकर खड़े हैं। बताते हैं कि दो साल पहले माइनिंग शुल्क 800 रुपये, डीजल 50 रुपये लीटर और मजदूर 250 रुपये में मिलता था।

तब बालू की कीमत पटना में 22 से 25 सौ रुपये प्रति ट्रैक्टर थी। अब माइनिंग शुल्क 1350 रुपये, डीजल 72 रुपये लीटर और दैनिक मजदूरी 400 रुपये हो गई है। इस कारण तीन हजार से 3500 रुपये में एक ट्रैक्टर बालू बिक रहा है। 

एल लाइसेंस से बिगाड़ा बाजार 

बालू बिक्री के लिए प्रपत्र 'एल' लाइसेंस जारी किया गया है। ऐसे लाइसेंसी के पास अवैध चालान से बालू ढुलाई का मामला पुलिस ने पकड़ा है। बाजार में मनमानी कीमत की वजह भी ऐसे ही लाइसेंसी हैं। 

 चालान देखकर करें खरीदारी 

यदि बालू खरीदने जा रहे हैं तो चालक से खनन के चालान की मांग करें। इस पर चालक का नाम, मोबाइल नंबर और आधार नंबर के साथ पूरा विवरण अंकित होगा। बालू की कीमत माइनिंग शुल्क, गाड़ी भाड़ा और मजदूरी जोड़कर प्रति ट्रैक्टर 22 से 25 सौ रुपये आता है। अधिकतम 3 हजार से 35 सौ रुपये में 100 घन फीट बालू आपके घर तक पहुंचनी चाहिए। यदि कोई मनमानी कीमत लेता है तो इसकी शिकायत खनन विभाग, जिला प्रशासन और पुलिस से कर सकते हैं। 

 

Posted By: Kajal Kumari