पटना, जेएनएन। रमजान का 30वां रोजा रविवार को मुकम्मल हो गया। लोगों में ईद का चांद देखने की बेताबी थी। इफ्तार के बाद लोग घरों की छतों पर चले आए। अर्श पर निगाहें टिकाए ईद के बारीक चांद को लोग काफी देर तक तलाशते रहे। कुछ ही देर में छतों पर खड़े लोगों ने चांद की दीदार किया। इसी बीच इमारत-ए-शरीया, एदारा ए शरीया, खानकाह इमादिया मंगल तालाब, रूएत हलाल कमेटी, दारुल उलूम फैय्याजुल मुस्लेमीन जैसे धार्मिक संगठनों ने भी चांद देखे जाने का एलान किया। फिर तो ईद की चांद रात देखते ही देखते गुलजार हो गयी। रविवार की रात में ही लोगों ने छतों से आतिशबाजी भी की। घरों में एक-दूसरे को मुबारकबाद दी। मोबाइल पर भी मुबारकबाद देने का सिलसिला जारी हो गया।

उत्साह पर भारी महंगाई का असर

खरीदारों ने बताया कि लॉकडाउन के बीच महंगाई का असर बाजार में है, लेकिन इंतजार के बाद आई ईद की खुशी को दरकिनार भी तो नहीं किया जा सकता है। घर के लोगों की जरूरतों का सामान तो खरीदना ही है। कपड़ों की कीमत इस बार बढ़ी हुई है। टोपी, कुर्ता-पायजामा, जूता-चप्पल, लच्छा-सेवई, ड्राइ फ्रूट, इत्र, सूरमा, बाकरखानी, नान व घर सजाने वाले सामानों की दुकानों पर ग्राहक शारीरिक दूरी का पालन करते खरीदारी करते रहे। मोहल्लों में खुलीं अस्थायी दुकानों पर भी ईद की खरीदारी हुई। जगह-जगह पुलिस मुस्तैद नजर आई। शरारती तत्वों पर पुलिस नजर रख रही थी। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी देर रात से बधाइयों का सिलसिला शुरू हो गया।

देर शाम तक हुई ईद की खरीदारी

लॉकडाउन के कारण ईद की खरीदारी को मुकम्मल करने के लिए लोग दिन में बाजारों की ओर कूच कर गए थे। राजधानी पटना के विभिन्न इलाकों के बाजार खरीदारों से पट गए। सब्जीबाग, सुलतानगंज, आलमगंज, सदर गली समेत पटना के अन्य इलाकों के बाजारों में महिला-पुरुष, बच्चे-बुजुर्ग सभी अपनी-अपनी जरूरतों के सामानों की खरीदारी करते नजर आए। इन इलाकों के टेलर व बुटीक की दुकानों पर लोग कपड़ा लेने पहुंचे। बाजार में महिलाओं, युवाओं और बच्चों की संख्या अधिक थी।

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस