पटना। वैश्विक महामारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण अन्य मरीजों घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए बिहटा के ईएसआइसी अस्पताल प्रबंधन की ओर से ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। इससे अस्पताल में भीड़ नियंत्रण कर कोरोना के खतरे को कम किया जा सकेगा व आमजन को आसानी से परामर्श सेवा मिल सकेगा।

इसकी जानकारी देते हुए नोडल अधिकारी अश्वनी कुमार सिंह ने बताया कि इस सेवा को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के निर्देश पर शुरू किया गया है। इससे चिकित्सक अस्पताल से ही सुरक्षित तरीके से जरूरतमंद लोगों को वीडियो काल द्वारा परामर्श प्रदान कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि इस एप से मरीज को अस्पताल आने की जरूरत नहीं होगी। बिहटा के अलावा समस्त बिहारवासियो के मरीज इस सेवा का लाभ ले सकेंगे। यह सेवा मरीजों के लिए पूरी तरह मुफ्त होगी। यह सुविधा सोमवार से शुक्रवार सुबह नौ बजे से दोपहर अपराह्न चार बजे तक एवं शनिवार को सुबह नौ बजे अपराह्न एक बजे तक उपलब्ध होगी। इस सुविधा का लाभ प्राप्त करने के लिए मरीज को वेब पोर्टल पर जाकर संजीवनी डाट इन टाइप करना है। इसके बाद रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करना होगा। यहां मरीज को अपनी बीमारी से जुड़ी जानकारी और मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। इसके बाद दर्ज मोबाइल नंबर पर ओटीपी आएगा। इसे सेव करना होगा। बेव पोर्टल पर ही इस संजीवनी वेबसाइट पर मरीज अपने मोबाइल नंबर और पासवर्ड में ओटीपी नंबर डालकर लागइन कर सकेंगे। इसके बाद उन्हें जिस डाक्टर से परामर्श लेना है, उनकी जानकारी इंटर करनी पड़ेगी और लगभग 10-15 मिनट के अंदर मरीज को परामर्श मिल जाएगा। इस प्रक्रिया को अपनाकर कोई भी मरीज सीधे चिकित्सक से परामर्श ले सकता है। इसमें विशेषज्ञ चिकित्सक जनरल मेडिसिन, जनरल सर्जरी, आर्थोपेडिक्स, गायनोकोलाजी, बाल रोग, त्वचा विज्ञान, मनोचिकित्सा, विकिरण आंकोलाजी, नेत्र रोग, दंत चिकित्सा, ईएनटी, यूरोलाजी और सर्जरी शामिल है। इसका लाभ मोबाइल, कंप्यूटर, लैपटाप, टेबलेट के साथ वेब कैमरा, माइक, स्पीकर और इंटरनेट कनेक्शन की सहायता से लिया जा सकता है।

Edited By: Jagran