गोपालगंज, जागरण संवाददाता। बिहार के गोपालगंज में एक होमियोपैथिक डॉक्‍टर का कारनामा जान कर आप चौंक जाएंगे। वह क्‍लीनिक में लोगों का इलाज कर जिंदगी बचाने की आड़ में मौत के समान का सौदागर बना बैठा था। अवैध हथियारों का सौदागर बने इस डॉक्‍टर का राज तब खुला, जब पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया।

दो पिस्तौल व पांच कारतूस के साथ गिरफ्तार

गोपालगंज के मीरगंज थाना क्षेत्र के सबेया हवाई अड्डा के समीप पुलिस ने दो पिस्तौल तथा पांच जिंदा कारतूस के साथ एक ग्रामीण डॉक्‍टर को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित हथुआ प्रखंड के बड़कागांव में होमियोपैथिक क्लीनिक चलाता है। उसपर क्लीनिक की आड़ में मुंगेर से हथियार मंगाकर बेचने का आरोप है। उससे पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर पुलिस अब हथियार खरीदने वालों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है।

एसडीपीओ ने बताया, कैसे हुई गिरफ्तारी

पिस्तौल के साथ डॉक्‍टर की गिरफ्तारी के बाद गुरुवार को हथुआ के एसडीपीओ नरेश कुमार ने मीरगंज नगर थाना में मीडिया को पूरी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मीरगंज के इंस्पेक्टर वीरेंद्र कुमार सिंह तथा थानाध्यक्ष शशि रंजन शराब के धंधेबाजों की धर-पकड़ के लिए छापेमारी करने निकले थे। दो तीन जगह छापेमारी करने के बाद पुलिस टीम सबेया हवाई अड्डा के पास पहुंची थी कि तभी पुलिस को देखकर एक बाइक सवार भागने लगा। पुलिस टीम ने बाइक सवार को पकड़ कर उसकी तलाशी ली तो उसके पास दो पिस्टल तथा पांच जिंदा कारतूस मिले। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। उसकी पहचान मीरगंज थाना क्षेत्र के जगतौली गांव निवासी होमियोपैथिक डॉक्‍टर कृष्णा ठाकुर उर्फ बुचर ठाकुर के रूप में की गई।

क्‍लीनिक की आड़ में बेंच रहा था हथियार

एसडीपीओ ने बताया कि आरोपित कृष्णा ठाकुर पहले विजयीपुर में क्लीनिक चलाता था। इसके बाद वह फुलवरिया के बथुआ बाजार में क्लीनिक चलाने लगा। फिर, हथुआ प्रखंड प्रखंड के बड़कागांव में क्लीनिक खोल लिया। वह क्लीनिक की आड़ में मुंगेर से हथियार मंगाकर बेचता था। पूछताछ के दौरान उसने किन लोगों को हथियार बेचे हैं, उनकी जानकारी दी है। आरोपित से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस अब हथियार खरीदने वाले लोगों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी अभियान चला रही है।

Edited By: Amit Alok