फतुहा (पटना), संवाद सूत्र। गृहप्रवेश के लिए परिवार के लोगों के साथ ई रिक्‍शा से जा रही फतुहा थाना क्षेत्र के मिर्जापुर नोहटा माेहल्‍ले की एक महिला से जालसाजों ने सबके सामने करीब ढाई लाख के गहने ठग लिए। जबतक लोग कुछ समझते ठग चंपत हो चुके थे। सूचना पर पहुंची पुलिस  ने उनके भागने की दिशा में पीछा भी किया। लेकिन वे पकड़ में नहीं आए। 

ब्‍लाक गेट के सामने खड़े थे दोनों जालसाज 

उदय प्रसाद का पुश्‍तैनी घर मिर्जापुर नोहटा में है। उन्‍होंने नया घर फतुहा छोटी लाइन मोहल्‍ले में बनवाया था। उसमें आज गृहप्रवेश करना था। इसके लिए उनकी पत्‍नी कुमकुम देवी अपने परिवार के सदस्‍योंं के साथ ई रिक्‍शा से जा रही थीं। पूजा को लेकर उन्‍होंने गहने भी पहन रखे थे। जैसे ही ई रिक्‍शा थाने से आगे प्रखंड गेट के पास पहुंची। वहां बाइक लगाकर खड़े दो युवकों ने रोका। खुद काे पुलिस वाला बताया। इसके बाद रौब जमाने लगा। कहा कि आपको पता नहीं है कि अभी लॉकडाउन है। इतने लोग कहां जा रहे हैं। थाने चलिए।

कहा-गहने लाइए, कागजात दे रहे हैं 

उनकी बातों में आकर ई रिक्‍शा सवार लोग सहम गए। अनुनय-विनय किया तो कहा कि आप अपना गहना दीजिए। इसकाे जब्‍त किया जा रहा है। कागज बनाकर दे रहे हैं। कुमकुम देवी ने उसे पांच भर का सोने का अपना आभूषण दे दिया। इस बीच एक ने बाइक स्‍टार्ट की और दूसरा उसपर बैठकर चंपत हो गया। ये लोग पीछे से थाने पहुंचे तब ठगे जाने का अहसास हुआ।  इसके बाद दंपती ने माथा पीट लिया। एक ओर गृहप्रवेश की खुशी मनाने जा रहे थे, इस बीच इतनी बड़ी घटना हो गई। मायूस कुमकुम देवी की आंखें नम हो गईं। लोगों का कहना था कि ठग जिस तरह से खुलेआम इतनी ढिठाई से पेश आते हैं, आम लोग कर भी क्‍या सकते हैं। जब थाने के इतने पास ठग खुद को पुलिस वाला बताकर ठगी कर रहा हो फिर दूसरे जगह की बात ही क्‍या।  

Edited By: Vyas Chandra