पटना, स्‍टेट ब्‍यूरो। बिहार विधानमंडल के बजट सत्र (Bihar Assembly Budget Session) के 12वें दिन महिला दिवस (International Women's Day) के अवसर पर महिला विधायकों ने जमकर प्रदर्शन किया। उन्‍होंने 'दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती कहकर ठगते हो, विधान सभा में आरक्षण देने से डरते हो' के नारे लगाते हुए आरक्षण की मांग की। विधानसभा के अंदर भी महिला दिवस की चर्चा होती रही। विधायक भागीरथी देवी ने तो मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के महिला उत्‍थान (Women Empowerment) के कार्यों को याद करते हुए कहा कि उनके इलाके थरुहट (Tharuhat) में ताे म‍हिलाएं नीतीश कुमार की पूजा करतीं हैं। महिला दिवस पर सदन में मजाकिया अंदाज भी दिखा। उर्जा मंत्री बिजेंद्र यादव ने 'मरद दिवस' (Men's Day) की जरूरत भी बताई।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सदन के अंदर और बाहर आधी आबादी के मुद्दों-मसलों पर खूब विमर्श हुआ। विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने सदन में महिला विधायकों के सवालों को तरजीह दी। सरकार से उनके उत्तर दिलवाए। परिसर में हल्ला-हंगामा हुआ। नारेबाजी भी हुई। महिला विधायकों ने संसदीय व्यवस्था में भी आधी आबादी के लिए 50 फीसद आरक्षण की मांग की। सारी गतिविधियों को देखते हुए स्पीकर ने कहा भी कि महिलाओं में अपने अधिकारों के प्रति पहले से ज्यादा जागरूकता आ गई है।

महिला विधायकों ने विधानमंडल परिसर में किया प्रदर्शन

विधानमंडल के बजट सत्र के 12वें दिन सोमवार को सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले पक्ष-विपक्ष की महिला विधायकों ने पंचायती राज व्यवस्था की तरह संसदीय व्यवस्था में भी आधी आबादी के लिए आरक्षण की मांग की। इस मुद्दे पर सभी दलों की महिलाएं एक दिखीं। सबका सीधा आरोप था कि महिलाओं को दुर्गा, लक्ष्मी और सरस्वती कहकर ठगते हो और विधानसभा में आरक्षण देने से डरते हो। भारतीय जनता पार्टी (BJP) की अरुणा देवी, कांग्रेस (Congress) की प्रतिमा कुमार, तथा राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) की मंजू अग्रवाल व संगीता कुमारी ने विधानसभा में आधी आबादी को 50 फीसद आरक्षण (Reservation) देने की मांग की। उन्‍होंने पोस्‍टरों के माध्‍यम से भी अपनी मांग रखी।

आरजेडी व माले विधायकों ने भी किया प्रदर्शन

उधर, आरजेडी विधायकों ने महिला अत्‍याचार को मुद्दा बनाकर प्रदर्शन किया। आरजेडी विधायकों ने कहा कि राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के शासनकाल में महिलाओं पर अत्‍याचार होता रहा है। विधानमंडल गेट पर प्रदर्शन करते हुए आरजेडी विधायकाें ने महिलाओं पर अत्याचार (Woman Atrocity) बंद करने की मांग की। वामपंथी दलों (Left Parties) के विधायकों ने भी महिलाओं के उत्‍थान की मांग की। भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (मार्क्‍सवादी-लेलिनवादी) के विधायक महबूब आलम (Mahboob Alam) ने बिहार में महिलाओं की स्थिति को खराब बताया। महबूब आलम ने शराबबंदी (Liquor Ban) को फ्लॉप बताते हुए शराब माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग रखी।

सवालों में भी महिला सदस्यों को तरजीह

सदन में भी महिला सदस्यों को तरजीह दी गई। इसके लिए सदन की भी सहमति दिखी। स्पीकर विजय कुमार सिन्हा के निर्देश पर विधानसभा में सूचीबद्ध विधायकों के सवालों के रोटेशन में बदलाव किया गया। स्पीकर ने व्यवस्था दी कि महिला विधायकों के सवाल सबसे पहले लिए जाएं। अनुसूचित प्रश्न के बाद महिला विधायकों के सवाल लिए गए। अधिकतर सवाल सामान्य प्रशासन विभाग और गृह विभाग से जुड़े थे। राज्य सरकार की ओर से सारे सवालों के जवाब बिजेंद्र प्रसाद यादव ने दिए।

सदन के अंदर छाई रही महिला दिवस की चर्चा

सदन के अंदर भी महिला दिवस की चर्चा छाई रही। विधायक भागीरथी देवी ने महिला उत्‍थान के लिए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को भोजपुरी में धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने कहा कि जब से वे मुख्यमंत्री बने हैं, तब से महिलाएं जीने लगीं हैं। अपने क्षेत्र की चर्चा करते हुए उन्‍होंने कि वे जहां से आती हैं, वहां बुरी स्थिति थी। बोलीं, ''नीतीश कुमार मुख्यमंत्री 2005 से बनल बानी। तबे से हम मेहरारू लोग के आजादी मिलल बाटे। थरुहट में त नीतीश जी के फोटो रखके मेहरारू पुजे ली।''

..और मंत्री बिजेंद्र यादव ने रखी 'मरद दिवस' की मांग

महिला दिवस के अवसर पर सदन के अंदर उर्जा मंत्री बिजेंद्र यादव (Bijendra Yadav) महिला विधायकों काे लगातार जवाब देते दिखे। इस दौरान उन्होंने मजाकिया लहजे में 'मरद दिवस' (Men's Day) के आयोजन की जरूरत भी बताई। बीजेपी विधायक व पूर्व मंत्री नंद किशोर यादव (Nand Kishore Yadav) ने भी चुटकी लेते हुए पूछा कि कि आज महिलाएं गृह विभाग से ही सवाल क्यों कर रही हैं?

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021