पटना सिटी। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मंगल तालाब स्थित पटना सिटी स्कूल खेल मैदान में मंगलवार को संविधान बचाओ जनसभा हुई। सीपीआइएमएलए के राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने कहा कि एनपीआर ही एनआरसी है। यह देश को तोड़ने और संविधान को खत्म करने वाला कानून है। एनसीआर से हम देश को बंटने नहीं देंगे। स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय संयोजक योगेंद्र यादव ने कहा कि इस काले कानून को खत्म करने के लिए सभी धर्म व समुदाय की महिला, युवा, बुद्धिजीवी, आम नागरिक लाखों की संख्या में एकजुट हो गए हैं। यह राष्ट्रीय आंदोलन बन गया है। हर जगह शाहीनबाग का नजारा है। यह आंधी अब कानून और सरकार दोनों को खत्म कर के ही रुकेगी।

वक्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार नागरिकता रजिस्टर तैयार करने के बजाए बेरोजगारों का रजिस्टर तैयार कर उन्हें रोजगार देने में अपनी ताकत लगाए।

खानकाह मीतनघाट के सज्जादानशी सैयद शमीम अहमद मुनअमी की अध्यक्षता में आयोजित सभा में बड़ी संख्या में महिलाएं भी उपस्थित थीं। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव शकील अहमद खां, राजद के नेता शिवानंद तिवारी, लेखिका निवेदिता झा, पूर्व महापौर अफजल इमाम, मुंबई से आए फिरोज मिठीबोरवाला, खानकाह इमादिया मंगल तालाब के सज्जादानशी सैयद मिस्बाहुल हक इमादी, मशकूर अहमद उस्मानी, डॉ. कफील खान, डॉ. अब्दुस्सलाम, भीम आर्मी के प्रदेश अध्यक्ष सामंत प्रधान, डॉ. जमील अहमद, विजय कुमार सिंह यादव, इबरार अहमद रजा, जफर इमाम व अन्य ने संबोधित किया। सभी वक्ताओं ने घर-घर आकर परिवार का विवरण मांगने वालों को कोई जानकारी व कागज नहीं देने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, राशन कार्ड, पासपोर्ट, पैनकार्ड ही हमारे भारतीय होने का ठोस प्रमाण है। भारत का नागरिक होने का सबूत अलग से देने की किसी को जरूरत नहीं है।

---

- सदरगली में धरना शुरू

एनसीआर के विरोध में सब्जीबाग, हारूण नगर, लाल बाग, शाहगंज, आलमगंज के बाद अब खाजेकलां में धरना शुरू हो गया है। देवरत्न प्रसाद की अध्यक्षता एवं मो. मेराज जेया के संचालन में संविधान बचाओ देश बचाओ मंच द्वारा सदर गली में शाम के समय आयोजित धरना को कई वक्ताओं ने संबोधित किया। सभी ने इस कानून को देश की एकता व अखंडता के लिए खतरा बताया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस