पटना [जेएनएन]। केंद्र सरकार ने सातवें वेतन आयोग की एचआरए (मकान किराया भत्ता) से जुड़ी सिफारिशों को कल अपनी मंजूरी दे दी है। एचआरए के लिए आयोग ने शहरों को तीन श्रेणियों (X, Y और Z) में बांटा है। इन श्रेणियों के मुताबिक कर्मचारियों को क्रमश: 24, 16 और 8 प्रतिशत के हिसाब से एचआरए दिया जाएगा।

उदाहरण के लिए यदि आपका बेसिक पे 20000 है और आप दिल्ली में रहते हैं तो आपको 4800 रुपये एचआरए के रूप में मिलेंगे। यह डीए और अन्य भत्तों के साथ आपकी बेसिक सैलरी में जुड़कर मिलेगी।

 

इस श्रेणी में पटना एक्स श्रेणी में आता है तो इस तरह से पटना के केंद्रीय कर्मचारियों को एक्स स्लैब वाला एचआरए दिया जाएगा। इसे लेकर केंद्रीय कर्मचारियों के बीच खुशी की लहर व्याप्त है।

 

ऐसे में जाहिर है लोग यह पता कर रहे हैं कि उन्हें किस स्लैब में एचआरए मिलेगा। आइए हम बता रहे हैं कि जिस शहर में आप पोस्टेड हैं वह किस श्रेणी में आता है।

 

2011 की जनगणना के बाद पुणे और अहमदाबाद को वाय श्रेणी से एक्स श्रेणी में अपग्रेड किया गया था, वहीं 21 शहरों को जेड श्रेणी से वाय श्रेणी में अपग्रेड किया गया था। इस नई क्लासिफिकेशन के आधार पर ही अप्रैल 2014 से सरकारी कर्मचारियों को एचआरए दिया जा रहा है।

 

एक्स श्रेणी के शहरः  अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, कोलकाता, हैदराबाद, मुंबई पुणे.

 

वाय श्रेणीः आगरा, अजमेर, इलाहाबाद, अमरावती, अमृतसर, आसनसोल, औरंगाबाद, बरेली, बेलगांव, भावनगर, भिवंडी, भोपाल, भुबनेश्वर, बीकानेर, बोकारो, चंडीगढ़, कोयंबटूर, कटक, देहरादून, धनबाद, दुर्ग-भिलाई, दुर्गापुर, इरोड, फरीदाबाद, फिरोजाबाद, गाजियाबाद, गोरखपुर, गुलबर्गा, गुंटूर, गुड़गांव, गुवाहाटी, ग्वालियर, हुबली-धारवाड़, इंदौर, जबलपुर, जयपुर, जालंधर, जम्मू, जामनगर, जमशेदपुर, झांसी, जोधपुर, कानपुर, कन्नूर, काकीनाड़ा, कोच्ची, कोट्टायम, कोल्हापुर, कोल्लम, कोटा, कोझिकोड़, कुर्नूल, लखनऊ, लुधियाना, मदुरई, मलप्पुरम, मालेगांव, मैंगलोर, मेरठ, मुरादाबाद, मैसूर, नागपुर, नासिक, नल्लौर, नोएडा, पटना, पुदुच्चेरी, रायपुर, राजकोट, राजामुंद्री, रांची, राउरकेला, सालेम, सांगली, सिलिगुड़ी, सोलापुर, श्रीनगर, सूरत, तिरुअनंतपुरम, पलक्कड़, थ्रिसुर, तिरुचिरापल्ली, तिरुप्पुर, उज्जैन, वड़ोदरा, वाराणसी, वसई-विरार सिटी, विजयवाड़ा, विशाखापट्टनम, वारंगल।

 

एचआरए की नई दरें 

-जब किसी सरकारी कर्मचारी का डीए बेसिक पे का 25% तक पहुंचेगा, तो उसे अलग-अलग कैटगरी के शहरों के लिए एचआरए 27%, 18% और 9% की दर से मिलेगा.

-जब किसी सरकारी कर्मचारी का डीए बेसिक का 50% तक पहुंचेगा तो उसे अलग-अलग कैटगरी के शहरों के लिए एचआरए 30%, 20% और 10% की दर से मिलेगा.

-निचले स्तर के कर्मचारियों के लिए एक फ्लोर तय किया जाएगा, उनका एचआरए उसी के आधार पर तय होगा.

 

सियाचिन भत्ता में बढ़ोत्तरी

-सातवें वेतन आयोग ने लेवल 9 और उसके ऊपर के लिए 31,500 की सिफारिश की थी.

-सरकार ने उसे बढ़ाकर 42,500 करने का फैसला किया है.

-सातवें वेतन आयोग ने लेवल 8 और उसके नीचे के लिए 21,000 की सिफारिश की थी.

-सरकार ने उसे बढ़ाकर 30,000 करने का फैसला किया है।

 

यह भी पढ़ें: जल्द ही बाजार में आ जाएंगे 200 रुपये के नोट, चल रही है इनकी छपाई

 

कर्मचारियों के भत्ते में सुधार

-पेंशनधारियों को फ्री मेडिकल भत्ता हर महीने 500 रुपये से बढ़ाकर 1000 रुपये किया गया.

-रिमोट इलाकों में काम करने वाले कर्मचारियों को स्पेशल कम्पन्सेशन भत्ता की व्यवस्था में सुधार किया गया है.

-टेक्निकल भत्ता को पुनर्गठित किया गया है। 

 

यह भी पढ़ें: CM पढ़ा रहे थे नशाबंदी का पाठ, गेम खेलने में व्यस्त थे IPS अधिकारी

Posted By: Kajal Kumari