Move to Jagran APP

BPSC PT Cancelled: पेपर वायरल होने के बाद बीपीएससी पीटी रद, एक केंद्राधीक्षक सहित चार से चल रही पुलिस पूछताछ

BPSC PT Cancelled बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं प्रारंभिक परीक्षा के पेपर लीक मामले में पुलिस जांच आरंभ हो गई है। पुलिस ने आरा के एक परीक्षा केंद्र के अधीक्षक व तीन अन्‍य कर्मियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

By Amit AlokEdited By: Published: Sun, 08 May 2022 02:39 PM (IST)Updated: Mon, 09 May 2022 05:20 PM (IST)
आरो के परीक्षा केंद्र पर बीपीएससी पीटी के दौरान प्रदर्शन करते परीक्षार्थी। तस्‍वीरें: जागरण।

पटना/ भोजपुर, जागरण टीम। BPSC PT Cancelled: बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की 67वीं संयुक्‍त प्रारंभिक परीक्षा (BPSC 67th. Combined Preliminary Examination) को रद (BPSC PT Cancelled) कर दिया गया है। आयोग की सिफारिश पर शुरू पुलिस जांच के क्रम में डीजीपी एसके सिंघल ने आर्थिक अपराध इकाई (EOU) के एडीजी नैयर हसनैन खान के नेतृत्‍व में जांच टीम का गठन कर दिया है। जांच टीम ने रविवार देर रात बीपीएससी पहुंची। विदित हाे कि रविवार को परीक्षा से पहले ही इसका पेपर लीक (BPSC Prelms Paper Leak) हो चुका था। विभिन्‍न टेलीग्राम व वॉट्सऐप ग्रुप्‍स पर प्रश्न पत्र परीक्षा से कुछ मिनट पहले वायरल किए गए थे। परीक्षा खत्म होने के बाद वायरल प्रश्न पत्र मूल प्रश्न पत्र से मैच कर गए। इसके पहले आरा के वीर कुंवर सिंह कालेज परीक्षा केंद्र पर सैकड़ों परीक्षार्थियों ने पेपर लीक के आरोप में हंगामा कर दिया। उन्‍होंने आरोप लगाया कि परीक्षा केंद्र पर कुछ परीक्षार्थियों को मोबाइल के साथ अंदर जाने की इजाजत दी गई। उन्‍हें समय से पहले ही प्रश्‍नपत्र लीक कर दिए गए तथा एक खास कमरे में बैठाकर परीक्षा ली गई, जबकि अन्‍य परीक्षार्थियों को विलंब से प्रश्‍नपत्र दिए गए। इस बीच पुलिस ने आरा के वीर कुंवर सिंह कालेज परीक्षा केंद्र के अधीक्षक व तीन कर्मियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

बीपीएससी परीक्षा के प्रश्‍न पत्र से मैच कर गए वायरल प्रश्‍न पत्र

बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा का प्रश्‍न पत्र विभिन्न टेलीग्राम ग्रुप पर रविवार को संपन्‍न परीक्षा से कुछ मिनट पहले ही वायरल किए गए थे। ये वायरल प्रश्न पत्र परीक्षा के बाद परीक्षार्थियों के मूल प्रश्न पत्र से मैच कर गए। राष्ट्रीय छात्र एकता मंच के अध्यक्ष दिलीप कुमार ने परीक्षा आरंभ होने से करीब 10 मिनट पहले ही मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को भेजे ई-मेल में वायरल प्रश्‍नपत्र की कॉपी देते हुए परीक्षा रद करने की मांग की।

यह भी पढ़ें: बोचहां में लालटेन जलाने के बाद अब लोकसभा-विधानसभा चुनाव में किसको वोट करेगा भूमिहार समाज, सम्मेलन से मुजफ्फरपुर लौटे नेताओं ने रखी अपनी बात

जांच कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर बीपीएससी ने रद कर दी परीक्षा

बिहार लोक सेवा आयोग के संयुक्त सचिव व परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि उन्‍हें पेपर लीक की जानकारी टीवी चैनलों पर प्रसारित सूचना से मिली। इस मामले में आयोग के अध्यक्ष आरके महाजन ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी गठित कर 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। इसके बाद जांच कमेटी ने कुछ घंटों के भीतर ही अपनी रिपोर्ट अध्‍यक्ष को सौंप दी। इसके बाद अध्‍यक्ष ने परीक्षा को रद करने की अनुशंसा कर दी।

ईओयू एडीजी के नेतृत्‍व में जांच टीम का गठन, चार से पूछताछ जारी

बीपीएससी की सिफारिश पर डीजीपी एसके सिंघल ने ईओयू के एडीजी नैयर हसनैन खान के नेतृत्‍व में जांच टीम का गठन किया है। टीम अपना काम शुरू कर चुकी है। बताया जा रहा है कि ईओयू ने आरा के वीर कुंवर सिंह कालेज परीक्षा केंद्र के अधीक्षक व तीन कर्मियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। यह वही परीक्षा केंद्र है, जहां खास परीक्षार्थियों को समय से पहले पेपर लीक कर देने के आरोप में अन्‍य परीक्षार्थियों ने हंगामा खड़ा कर दिया था। इसी के बाद पेपर लीक का मामला प्रकाश में आया।

जांच टीम ने बीपीएससी में ली प्रश्नपत्र भेजने की प्रक्रिया की जानकारी

जांच टीम गठित हाेने के बाद रविवार की रात ही यह बीपीएससी कार्यालय पहुंची और करीब 45 मिनट तक बीपीएससी के अध्यक्ष व परीक्षा नियंत्रक समेत अन्य अधिकारियाें व सदस्याें से परीक्षा लेने की प्रक्रिया की जानकारी ली। टीम ने यह भी जानकारी ली कि प्रश्न पत्र बीपीएससी से परीक्षा केंद्रों तक कैसे भेजे जाते हैं और काैन-काैन लाेग उसे लेकर जाते हैं?

परीक्षार्थियों का आराेप: पेपर लीक, अथॉरिटी दे रहे फंसाने की धमकी

इसके पहले भोजपुर में वीर कुंवर सिंह कालेज परीक्षा केंद्र पर बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्‍त प्रारंभिक परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों ने हंगामा खड़ा कर दिया। वे परीक्षा के दौरान केंद्र के गेट पर आकर हंगामा करने लगे। उन्‍होंने परीक्षा केंद्र पर पेपर लीक, कुछ परीक्षार्थियों को मोबाइल के साथ अंदर जाने व खास कमरे में बैठाकर परीक्षा लेने के आरोप लगाए। परीक्षार्थी कह रहे थे कि ऐसे आरोप लगाने पर अथॉरिटी उन्‍हें फंसाने की धमकी दे रहे थे। कह रहे थे कि उन लोगों के लिए ही प्रश्नपत्र वायरल हो रहा है।

मैनेज था परीक्षा केंद्र, कुछ परीक्षार्थियों को पहले ही दे दिए प्रश्न-पत्र

हंगामा कर रहे परीक्षार्थियों का आरोप है परीक्षा केंद्र कुछ के लिए मैनेज था, जिन्‍हें समय से पहले ही प्रश्न-पत्र दे दिए गए। उन लोगों की नीचे के दो अलग कमरों में बिठाया गया था। जब परीक्षा का समय शुरू होने के कुछ मिनट बाद तक प्रश्न पत्र नहीं मिला तब परीक्षार्थियों ने हंगामा करना शुरू किया और उन कमरों में भी घुस गए, जहां पहले से कुछ परीक्षार्थी प्रश्न पत्र हल कर रहे थे। आरोप है की कुछ परीक्षार्थियों ने पहले से प्रश्‍न पत्र हल कर रहे परीक्षार्थियों के प्रश्न पत्र फाड़ दिए। इसके बाद वे गेट पर जमा होकर हंगामा करने लगे।

डीएम ने प्रश्‍न पत्रों को कराया सील, आयोग को भेजी अपनी रिपेार्ट

घटना कर सूचना मिलने पर भोजपुर के डीएम रोशन कुशवाहा केंद्र पर पहुंचे। उन्‍होंने बताया कि सभी प्रश्न पत्रों को लेकर सील कर दिया गया। कोई प्रश्न पत्र केंद्र से बाहर निकलने की पुष्टि नहीं हुई है। डीएम ने कहा कि परीक्षार्थियों से लिखित शिकायत मांगी गई। उन्‍होंने कहा कि जांच रिपोर्ट के आधार पर अंतिम फैसला बिहार लोक सेवा आयोग करेगा। इसके कुछ घंटों बाद आयोग ने परीक्षा रद कर दी।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.