पटना [जेएनएन]। बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने सोमवार की सुबह 63वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया। अंतिम रूप से 11 विभागों के लिए 355 अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण घोषित किया गया है। टॉप-10 में चार छात्राओं ने स्थान बनाया है।

टॉप 10 में इन्‍होंने बनाई जगह

प्रथम स्थान भोपाल में कार्यरत श्रीयांश तिवारी ने प्राप्त किया है। दूसरे स्थान पर नालंदा जिले के नगरनौसा गांव के अनुराग कुमार, तीसरे पर पूर्णिया के मेराज जमील, चौथे पर पटना के आनंदपुरी मोहल्ले की सुनिधि रहीं। पांचवीं रैंक विश्वनाथगंज खगडिय़ा की श्रेया सलोनी ने प्राप्त किया। छठी रैंक नारदीगंज, नवादा की अर्चना कुमारी, सातवीं जमालपुर गोगरी, खगडिय़ा के अमूल्य रत्न, आठवीं पीसी कॉलोनी, कंकड़बाग की सृष्टि प्रिया, नौवीं मुजफ्फरपुर के हृषव तथा 10वीं रैंक बाबा बासुकीनाथ कॉलोनी, भागलपुर के शैलेंद्र कुमार सिंह ने प्राप्त किए हैं।

साक्षात्कार में उपस्थित हुए 824 अभ्‍यर्थी

आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि मुख्य परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर साक्षात्कार के लिए 924 अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था। इसमें 824 ही उपस्थित हुए। इनमें से नौ क्रीमीलेयर, दिव्यांगता, स्वतंत्रता सेनानी के रिश्तेदार से संबंधित मूल प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं कर सके। इस कारण इन्हें उक्त कैटेगरी के लाभ से वंचित होना पड़ा। वहीं, चार अभ्यर्थी साक्षात्कार के दिन स्नातक उत्तीर्ण होने संबंधित मूल प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर सत्यापन नहीं करा सके। इस कारण उनकी उम्मीदवारी रद कर दी गई है।

कुल 807 अभ्यर्थियों की मुख्य लिखित परीक्षा और साक्षात्कार में प्राप्त अंकों के योग के आधार पर मेधा सूची तैयार की गई है। आरक्षण का लाभ विभागवार दिया गया है।

डीएसपी के लिए केवल छह का चयन

परीक्षा नियंत्रक ने बताया कि 63वीं परीक्षा में सबसे कम एक सीट बिहार सहकारिता सेवा प्रशासनिक संवर्ग में सहायक निबंधक की थी। बिहार पुलिस सेवा में पुलिस उपाधीक्षक के छह, बिहार प्रशासनिक सेवा के 31, नियोजन पदाधिकारी के तीन, बिहार कारा सेवा में काराधीक्षक के नौ, बिहार निबंधन सेवा में अवर निबंधक सह संयुक्त अवर निबंधक के 16, श्रम अधीक्षक के 11, राजस्व अधिकारी के 19 और उत्पाद निरीक्षक के 13 पदों के लिए रिजल्ट का प्रकाशन किया गया है। सबसे अधिक 123-123 पद बिहार वित्त सेवा में वाणिज्य कर पदाधिकारी तथा श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी के हैं।

सामान्य से अधिक ओबीसी का कट-ऑफ

इस बार आयोग के रिजल्ट में सबसे चौंकाने वाला कट-ऑफ रहा है। सामान्य से अधिक अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) कैटेगरी के अभ्यर्थियों का कट-ऑफ गया है। सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों का कट-ऑफ 588, जबकि ओबीसी कैटेगरी का 595 अंक है। ओबीसी महिला का कट-ऑफ सामान्य श्रेणी के पुरुष के बराबर 588 है। जबकि, सामान्य श्रेणी महिला का कट-ऑफ 575, एससी पुरुष व महिला का क्रमश: 553 व 525, एसटी का 575 व 547, अति पिछड़ा वर्ग का 564 व 554, पिछड़ा वर्ग महिला का 564, स्वतंत्रता सेनानी के नाती-नातिन व पोता-पोती कैटेगरी का 571 कट-ऑफ रहा। 

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप