पटना, जागरण टीम। Bihar Weather Update: दो-तीन दिनों से मौसम नम रहने से लोगों को राहत मिली हुई है। हालांकि अब इसमें थोड़ी खलल पड़ने के आसार हैं। अब एक-दो दिन हल्‍की-फुल्‍की बारिश के आसार हैं, वह भी कहीं-कहीं। तापमान 34 से 36 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है। हालांकि 18 अगस्‍त से एक बार फिर कई जगहों पर हल्‍की बारिश के साथ वज्रपात की स्थिति हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार अगले पांच दिनों में पश्चिम बिहार के जिलों में मौसम सामान्‍य रहेगा। लेकिन मध्‍य, उत्‍तर, दक्षिण एवं पूर्वी बिहार में वज्रपात और हल्‍की बारिश हो सकती है। 

मौसम विभाग के अनुसार 16 से 18 अगस्‍त तक छिटपुट बारिश हो सकती है। 19 अगस्‍त से अच्‍छी बारिश होने के आसार हैं। यदि मौसम विभाग का ये पूर्वानुमान सही साबित होता है तो किसानों को खासकर काफी राहत मिल सकती है। मानसून की बेरुखी से समय पर धान की रोपनी नहीं हो पाई। सुखाड़ की स्थिति बन गई। पिछले साल के मुकाबले इस वर्ष काफी कम वर्षा हुई है। इसका नतीजा धान के उत्‍पादन पर पड़ेगा।  

बता दें कि बिहार की कृषि मुख्‍य तौर पर मानसून पर निर्भर करती है। आकाशीय पानी से ही फसलों की ज्‍यादातर सिंचाई होती है। लेकिन इस बार मानसून की रफ्तार पकड़ने से पहले ही बारिश की गति धीमी पड़ गई। दक्षिण-पश्चिम मानसून कमजोर पड़ गया। आरंभ में मौसम विभाग ने मानसून की स्थिति सामान्‍य रहने की संभावना जताई थी। लेकिन उस अनुरूप वर्षा हुई नहीं। किसानों का समय आसमान की ओर ताकते बीत रहा। कभी-कभी वर्षा हुई तो वह ऊंट के मुंह में जीरा साबित हुई। पश्चिमी और दक्षिणी बिहार में स्थिति काफी विषम है। वहां सुखाड़ हो गया है।  

सीतामढ़ी में रही सबसे ज्‍यादा गर्मी 

स्‍वतंत्रता दिवस के दिन सीतामढ़ी के पुपरी में सर्वाधिक तापमान दर्ज किया गया। यहां का तापमान 36.2 डिग्री सेल्सियस रहा। सबसे कम तापमान गया में 24.4 डिग्री दर्ज किया गया। 

Edited By: Vyas Chandra