पटना, आनलाइन डेस्‍क। Bihar Weather Forecast: बिहार में मानसून फिलहाल कमजोर पड़ गया है। इसके चलते बारिश सिलसिला भी कमजोर पड़ गया है। मानसून का असर अभी मध्‍य भारत के हिस्‍सों पर अधिक है। बिहार के अलग-अलग इलाकों में थोड़ी-बहुत बारिश स्‍थानीय कारणों से हो रही है। दिल्‍ली के राष्‍ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र से जारी पूर्वानुमान में बताया गया है कि छह से सात सितंबर के बीच बिहार, झारखंड और बंगाल के गंगा से सटे इलाकों में तेज बारिश हो सकती है। मानसून की ट्रफ लाइन दक्षिण की ओर शिफ्ट होती दिख रही है और यह फिलहाल बीकानेर, सीकर, ग्‍वालियर, सीधी, रांची और बंगाल के दीघा से होकर गुजर रही है। फिलहाल राज्‍य में बारिश का सिलसिला सुस्‍त होने से उमस भरी गर्मी और तीखी धूप का सामना लोगों को करना पड़ रहा है।

बंगाल की खाड़ी में बन रहा लो प्रेशर एरिया

अगले 48 घंटे के अंदर बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर एरिया बनने के आसार हैं। इसका असर आसपास के इलाकों में मौसम में बदलाव के तौर पर देखने को मिलेगा। इसके कारण झारखंड से सटे दक्षिण बिहार के इलाकों में बारिश हो सकती है। इसका अधिक असर बंगाल और झारखंड में देखने को मिलेगा।

पटना केंद्र ने जारी किया है तात्‍कालिक अलर्ट

मौसम विज्ञान विभाग के पटना केंद्र ने रविवार की सुबह सीतामढ़ी, मधुबनी, अरवल, जहानाबाद, रोहतास, औरंगाबाद, मुजफ्फरपुर, वैशाली और नालंदा जिले के कुछ हिस्‍सों में आज हल्‍की से मध्‍यम दर्जे की बारिश और वज्रपात हो सकता है। पटना केंद्र के मुताबिक नौ सितंबर तक बिहार के ज्‍यादातर हिस्‍सों में तेज बारिश के आसार नहीं हैं।

बिहार में अगस्‍त तक औसत से अधिक बारिश

राज्‍य में जून से अगस्‍त तक औसत से अधिक बारिश हुई है, हालांकि वर्षापात का वितरण पूरे राज्‍य में एक जैसा नहीं है। कुछ जिलों में डेढ़ गुना अधिक तो कुछ में औसत से काफी कम बारिश हुई है। सितंबर महीने में राज्‍य में बारिश की रफ्तार घट गई है।