पटना, स्‍टेट ब्‍यूरो। Bihar Unlock 1.0: बिहार में राजनीति पर भी अनलॉक 1 का असर दिखने लगा है। चुनावी साल में लॉकडाउन ने राजनीतिक गतिविधियों पर ताले जड़ दिए थे, किंतु रियायत मिलते ही सियासी गलियारे गुलजार होने लगे हैं। 243 सीटों वाली बिहार विधानसभा के लिए इसी साल सितंबर-अक्टूबर में चुनाव होने हैं। इसके लिए बड़े दलों की सक्रियता बढ़ गई है। पटना के वीरचंद पटेल पथ स्थित भारतीय जनता पार्टी (BJP), जनता दल यूनाइटेड (JDU) एवं राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) समेत विभिन्न दलों के कार्यालयों में नेताओं की आमदरफ्त बढ़ गई है। अब छोटे दल भी अपनी सक्रियता बढ़ा सकते हैं।

अमित शाह की वर्चुअल रैली सात को

बीजेपी की ओर से चुनावी अभियान का शंखनाद भी कर दिया गया है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह सात जून को बिहार में पहली वर्चुअल रैली करेंगे।

जेडीयू कार्यालय में भी बढ़ी सक्रियता

उधर, सावधानी और सतर्कता के साथ जेडीयू कार्यालय को भी खोल दिया गया है। लोगों का आना-जाना शुरू हो गया है। बिना सैनिटाइजर लगाए कार्यालय के परिसर में प्रवेश नहीं किया जा सकता है।

चुनावी तैयारियों में जुटी एलजेपी

लोक जनशक्ति पार्टी (LJD) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी विधानसभा चुनाव को लेकर अपनी पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को संशय से निकालने की कोशिश करते हुए कार्यालय में गतिविधियां शुरू कर दीं। आगाह भी कर दिया कि चुनाव की तैयारी करें।

कार्यकर्ताओं के लिए खुला आरजेडी कार्यालय

बीजेपी की रैली की काट के लिए आरजेडी की ओर से भी तैयारी है। कार्यालय में पहले से खास-खास आ रहे थे। अब आम कार्यकर्ताओं के लिए भी दरवाजा खुल गया है। आरजेडी कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह दो सप्ताह पहले से ही बैठ रहे हैं। वहां अन्य लोगों के आने की मनाही थी। किंतु प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन, महासचिव मदन शर्मा एवं कार्यालय सचिव चंदेश्वर प्रसाद सिंह नियमित आ रहे थे। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव एवं विधायक तेज प्रताप भी आते-जाते रहे।

कांग्रेस ने शुरू किया अपना अभियान

कांग्रेस ने पहले ही अभियान शुरू कर दिया है। पार्टी कामगारों के पक्ष में सोशल मीडिया पर आवाज बुलंद कर चुकी है। अगली कड़ी में मंगलवार को सभी जिला मुख्यालयों में धरना-प्रदर्शन किया। यह कारवां चार और छह जून को प्रखंडों तक पहुंचेगा।

जीतनराम मांझी ने आज दिया धरना

हिंदुस्‍तानी आवाम मोर्चा (हम) भी पीछे नहीं है। केंद्र एवं राज्य सरकार की नीतियों के खिलाफ जीतनराम मांझी तीन जून को खुद राजधानी में धरना पर बैठे। जिलों में भी पार्टी के कार्यकताओं ने धरना-प्रदर्शन किया।

यह भी प़ढ़ें: जनता के नाम संदेश में बोले CM Nitish: बिहार में अब शुरू होगी पढ़ाई, बाहर से लौटे लोगों को मिलेगा राेजगार

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस