पटना, आनलाइन डेस्‍क। Bihar Politics: बिहार के राजनीतिक गलियारे में आज लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद प्रिंस राज (LJP MP Prince Raj) की चर्चा तेज है। दिल्‍ली के राउज एवेन्‍यू कोर्ट आज दुष्‍कर्म के मामले में प्रिंस की अग्रिम जमानत याचिका पर फैसला सुना सकती है। एलजेपी सांसद के खिलाफ एक युवती ने नशा खिलाकर दुष्‍कर्म करने का आरोप लगाते हुए नई दिल्‍ली के कनाट प्‍लेस थाने में प्राथमिकी (FIR) दर्ज कराई है। युवती राम विलास पासवान के निधन के पहले एलजेपी में थी। उसके प्रिंस राज से नजदीकी संबंध रहे थे और वह लोकसभा चुनाव के दौरान प्रचार के लिए प्रिंस के निर्वाचन क्षेत्र समस्‍तीपुर में आई थी। चिराग पासवान और पशुपति पारस, दोनों ही गुटों के एलजेपी कार्यकर्ता इस पूरे मामले पर लगातार निगाह बनाए हुए हैं।

प्रिंस ने पहले ही युवती के खिलाफ दर्ज कराया था केस

इस मामले में एलजेपी सांसद ने संबंधित युवती के खिलाफ पहले ही ब्‍लैकमेल करने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया है। सांसद का दावा है कि युवती उनसे रुपए मांग रही थी और बड़ी रकम उनसे ले भी चुकी है। युवती भी कई महीने से दुष्‍कर्म की प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए कोशिश कर रही थी। बताया जा रहा है कि कोर्ट के हस्‍तक्षेप के बाद युवती की शिकायत थाने में दर्ज की गई है।

पारस गुट लगा रहा चिराग पासवान पर फंसाने का आरोप

इस मामले में एलजेपी का पशुपति पारस गुट आरोप लगा रहा है कि चिराग पासवान ने अपने चचेरे भाई प्रिंस राज को फंसाने के लिए यह साजिश रची है। एलजेपी में गुटबाजी सामने आने के बाद चिराग ने इस मामले का जिक्र करते हुए एक पत्र सार्वजनिक किया था। इसके बाद ही यह मामला अधिक चर्चा में आया। चिराग ने दावा किया था कि इस पेचीदा मामले में भी उन्‍होंने अपने भाई की मदद करने की कोशिश की थी।