पटना [वेब डेस्क]। छपरा के मकेर में शुक्रवार को एक युवक द्वारा सोशल मीडिया पर देवी-देवताओं की अश्लील फोटो और वीडियो वायरल होने के बाद जिले में शनिवार को भी दिनभर तनाव व्याप्त रहा। धर्मिक भावनाएं आहत होने से शनिवार को गुस्साए लोगों ने साहेबगंज और सहजा मठिया में धार्मिक स्थलों पर पेट्रोल बम फेंका।
तनाव की स्थिति फिलहाल नियंत्रण में- पुलिस महानिदेशक
राज्य पुलिस मुख्यालय ने सारण में दो गुटों के बीच संघर्ष और तनाव की स्थिति को फिलहाल नियंत्रण में बताया है। राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) सुनील कुमार ने बताया कि शनिवार को राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (विधि-व्यवस्था) आलोक राज और आइजी (ऑपरेशन) कुंदन कृष्णन सारण पहुंचकर स्थिति पर खुद नजर रखे हुए हैं। जबकि मुजफ्फरपुर के जोनल आइजी समेत कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी छपरा में कैंप कर रहे हैं।
सुनील कुमार ने बताया कि शनिवार को पांच सौ से भी अधिक पुलिस बल सारण भेजा गया है। जबकि डीएसपी, पुलिस निरीक्षक व अवर पुलिस निरीक्षक स्तर के 45 अन्य पुलिस अधिकारियों को छपरा में स्थिति सामान्य होने तक प्रतिनियुक्त किया गया है। उन्होंने कहा कि यदि जरूरत पड़ी तो और अधिक पुलिस बल की भी सारण में तैनाती की जाएगी। पुलिस मुख्यालय सारण के तनावग्रस्त इलाकों की मॉनिटरिंग कर रहा है।
दिनभर हुई हिंसा और बना रहा तनाव
इस धार्मिक उन्माद और हिंसा में छपरा एसपी के बॉडीगार्ड भी गंभीर रूप से घायल हो गए। तनाव को देखते हुए जिलाधिकारी ने जिले में इंटरनेट सर्विस पर तीन दिन का बैन लगा दिया है।शनिवार की सुबह से आक्रोशित लोग सड़कों पर उतर आए और पूरे शहर में जगह-जगह हिंसा और आगजनी की ।
छपरा के साहेबगंज इलाके में सबसे ज्यादा तनाव व्याप्त रहा जहां दो धार्मिक पक्ष के लोगों ने एक दूसरे के धर्म स्थलों पर हमला बोलते हुए पत्थरबाजी की और एक-दूसरे पर जमकर लाठी डंडे बरसाए। वहीं लोगों ने पेट्रोल बम से भी हमला किया और धार्मिक स्थल में आग लगा दी ।
पुलिस ने किया फ्लैगमार्च
इस घटना के बाद प्रशासन ने पूरे शहर में फ्लैग मार्च किया और स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश की। लेकिन भीड़ किसी की नहीं सुन रही थी। लोग पुलिस पर भी पथराव करने लगे थे जिस कारण कुछ जगहों पर पुलिस को भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़ने पड़े ।

मामले को शांत कराने पहले एसपी और डीएम पहुंचे लेकिन उनसे भीड़ नियंत्रित नही हो सकी। बाद में खुद डीआईजी अजीत कुमार राय ने पूरे दल-बल के साथ सड़क पर पैदल मार्च किया। पूरा जिला छावनी में तब्दील कर दिया गया है। पुलिस की गश्त अभी भी जारी है।
सारण में इंटरनेट सेवाएं बंद
जिलाधिकारी द्वारा जिले में अफवाहों पर रोक लगाने और जिले में इंटरनेट सेवा बंद करने के आदेश के बाद दूरसंचार कंपनियों ने अपनी इंटरनेट सेवा बंद कर दी है। डीआइजी लोगों ने बताया कि अभी मामला शांत है। इस मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है उनसे पूछताछ की जा रही है। जिला एसपी पंकज कुमार ने इसकी पुष्टि की।
उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की और कहा कि चौबीस घंटे के अंदर आरोपी पुलिस हिरासत में होगा। हिंदू संगठनों में इस मामले को लेकर काफी आक्रोश है। संगठनों ने छपरा बंद का आह्वान किया था। बजरंग दल के कार्यकर्ता सुबह से ही सड़कों पर उतर आए थे। वहीं शहर के चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती की गई थी लेकिन लोगों का गुस्सा नियंत्रण करने में पुलिस को दिनभर कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।
शुक्रवार को भी इस मामले को लेकर दिनभर हंगामा हुआ था, लोग सड़कों पर उत्पात मचाते रहे थे। दुकानें बंद रहीं थीं। पूरे परसा बाजार और मकेर में सन्नाटा छाया रहा था।

पढ़ें : नीतीश के एमएलए का डर्टी डांस, बार बालाओं संग खूब लगाए ठुमके
क्या है मामला
सारण के मकेर में शुक्रवार को देवी देवताओं के चित्र के साथ आपत्तिजनक हरकत का फोटो और वीडियो वायरल होने के बाद जमकर बवाल हुआ। लोगों ने सड़क जाम कर दिया। स्थिति बिगड़ते देख छपरा से डीएम व एसपी पहुंचे। आरोपी की 24 घंटे में गिरफ्तारी के आश्वासन पर लोग शांत हुए, परंतु परसा, सोनहो व भेल्दी में भी बवाल शुरू हो गया।

वीडियो वायरल करने वाले आरोपी की पहचान कर ली गई है। लोगों ने मकेर के गांव में उसके घर को फूंक दिया है। आरोपी घर में ताला जड़ परिवार के साथ फरार हो गया है।
दो दिन से मोबाइल पर घूम रहा था आपत्तिजनक वीडियो
दो दिनों पूर्व परसा थाना क्षेत्र के बलहा गांव निवासी युवक के मोबाइल पर देवी-देवताओं के चित्र के साथ अश्लील हरकत करने की फोटो व वीडियो दूसरे युवक ने भेजा था। उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर वीडियो भेजने वाले युवक की पहचान कर ली। पहचान के बाद शिकायत परसा व मकेर थाना पुलिस से की गई।
दो दिनों में कोई कार्रवाई नहीं होने के बाद युवकों ने इसकी जानकारी स्थानीय लोगों को दी। इसके बाद शुक्रवार सुबह पांच बजे से मकेर में बवाल शुरू हो गया। करीब एक दर्जन जगहों पर आगजनी कर यातायात बाधित कर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। अन्य इलाकों में भी हंगामा होने लगा।
एसपी के बयान ने किया आग में घी का काम
सूचना मिलने पर जिला मुख्यालय से डीएम एसपी मौके पर पहुंचे। आक्रोशित लोगों को एसपी शांत नहीं करा सके। उनके एक बयान से लोग और भड़क गए। एसपी सड़क जाम कर रहे लोगों से पूछ बैठे कि आप लोगों को हनुमान चालीसा याद है? एसपी की इस बात ने आग में घी का काम किया।
बवाल बढ़ने की सूचना पर मुजफ्फरपुर जोन के आईजी सुनील कुमार सारण के कमिश्नर नर्मदेश्वर लाल पहुंचे। बड़े अधिकारियों ने सूझबूझ का परिचय देते हुए स्थिति को संभाला। डीएम दीपक आनंद ने कहा कि यह साइबर क्राइम का मामला है। तीन टीमें गठित कर दी गई हैं। 24 घंटे के अंदर दोषियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। शांति भंग करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप