जागरण संवाददाता, पटना: छठे चरण के पंचायत राज चुनाव में मसौढ़ी और पुनपुन प्रखंड में छोटी दीपावली के दिन मतदान होगा। रात में मतदानकर्मी ईवीएम जमा करने के बाद ही घर लौटेंगे। दोनों प्रखंडों के चुनाव परिणाम के लिए 10 दिनों तक इंतजार करना होगा। धनतेरस के दिन लोग खरीदारी करते दिखेंगे लेकिन मतदानकर्मियों के हाथों में ईवीएम और बैलेट बाक्स होगा। पुनपुन और मसौढ़ी में मतदान के लिए धनतेरस के दिन ही मतदानकर्मी और पुलिस बल चुनाव कराने के लिए बूथों के लिए रवाना हो जाएंगे। धनतेरस की रात बूथों पर कटेगी। छोटी दीपावली के दिन मतदान कराएंगे और रात में ईवीएम मसौढ़ी स्थित बज्रगृह में जमा कराने के बाद त्योहार मनाने घर लौटेंगे। 

पुनपुन प्रखंड के 13 और मसौढ़ी के 17 पंचायतों में 3 नवंबर को मतदान होना है। 2 नवंबर को धनतेरस, 3 को छोटी दीपावली और 4 नवंबर को दीपावली है। दोनों प्रखंडों का चुनाव परिणाम 10 दिनों बाद 13 और 14 नवंबर को घोषित होगा। मतदान के लिए पुनपुन में 173 और मसौढ़ी 250 बूथ बनाए गए हैं। 

सबसे अधिक एक माह तक चलेगा प्रचार 

पंचायत चुनाव के 10 वें चरण में उम्मीदवारों को सबसे अधिक 30 दिनों तक प्रचार का मौका मिलेगा। घोसवरी, अथमलगोला, मोकामा और बेलछी प्रखंड में 8 नवंबर को उम्मीदवारों को चुनाव चिह्न मिल जाएगा लेकिन 30 दिनों बाद 8 दिसंबर को मतदान होगा। 10 चरण में चार प्रखंडों के 38 पंचायतों में मतदान होना है। अंतिम चरण में दानापुर और मनेर में 12 दिसंबर को मतदान कराया जाएगा और परिणाम 14 को आएगा। बता दें धनतेरस के दिन लोग खरीदारी करते दिखेंगे लेकिन मतदानकर्मियों के हाथों में ईवीएम और बैलेट बाक्स होगा। पुनपुन और मसौढ़ी में मतदान के लिए धनतेरस के दिन ही मतदानकर्मी और पुलिस बल चुनाव कराने के लिए बूथों के लिए रवाना हो जाएंगे। बता दें कि बिहार में इस बार 11 चरणों में पंचायत चुनाव हो रहे हैं। 

Edited By: Akshay Pandey