पटना, जेएनएन। बिहार के विपक्षी महागठबंधन में जारी सियासी उठापटक के बीच राष्‍ट्रीय जनता दल ने राबड़ी देवी के भाई को विधान परिषद का प्रत्‍याशी बनाया है। चौंकिए नहीं, हम साधु यादव व सुभाष यादव की बात नहीं कर रहे। राबड़ी देवी के ये मुंहबोले भाई हैं बिस्कोमान के अध्यक्ष सुनील सिंह। राबड़ी देवी का उनको राखी बांधता एक फोटो भी वायरल हो गया है। इस रिश्‍ते से वे तेजस्‍वी यादव व तेज प्रताप यादव के मामा हुए। आरजेडी के जिन तीन प्रत्‍याशियों ने बिहार विधान परिषद के लिए नामांकन किया है, उनमें वे भी शामिल हैं।

आरजेडी के तीन प्रत्याशियों ने किया नामांकन

विदित हो कि बिहार विधान परिषद चुनाव के लिए आरजेडी के तीन प्रत्याशियों ने बुधवार को नामांकन किया। उनमें सुनील सिंह के अलावा आरजेडी अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष रामबली चंद्रवंशी तथा व्‍यवसायी मो. फारुख शामिल हैं। इसके एक दिन पहले विधान परिषद में आरजेडी के पांच सदस्‍यों ने जनता दल यूनाइटेड का दामन थाम कर पार्टी को परेशानी में डाल दिया है। परिषद में आरजेडी के केवल तीन सदस्‍य बचने के कारण राबड़ी देवी के नेता विरोधी दल की कुर्सी पर भी ग्रहण लग गया है।

राबड़ी के मुंहबोला भाई माने जाते सुनील सिंह

आरजेडी की तरफ से नामांकन करने वाले सुनील कुमार सिंह को राबड़ी देवी (Rabri Devi) राखी बांधती रहीं हैं। सुनील सिंह को राबड़ी देवी का मुंहबोला भाई माना जाता है। वे लालू परिवार के बेहद करीबी माने जाते हैं। लालू परिवार में सबों के प्रिय सुनील सिंह हमेशा संकट में साथ खड़े रहे हैं।

पार्टी के अति पिछड़ा बने रामबली चंद्रवंशी

आरजेडी के दूसरे प्रत्‍याशी रामबली चंद्रवंशी पर बतौर अति पिछड़ा चेहरा लालू प्रसाद यादव ने भरोसा किया है। वे भी लालू परिवार के भरोसेमंद रहे हैं। रामबली चंद्रवंशी पटना के बीएन कॉलेज के जियोलॉजी के प्रोफेसर तथा आरजेडी अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष हैं।

मुंबई के बड़े व्‍यवसायी हैं मो. फारुख

आरजेडी के तीसरे प्रत्‍याशी मो. फारुख के संबंध में अधिक जानकारी नहीं मिल रही है। वे मुंबई के बड़े व्‍यवसायी हैं। बिहार के शिवहर के रहने वाले मो. फारुख बीते कुछ समय से लालू परिवार से करीब माने जा रहे हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस