बेगूसराय, जेएनएन: शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बेगूसराय में बलिया के चमड़िया मैदान में थे। अपने भाषण के दौरान वे कोरोना काल में किए गए अपने कार्यो की उपलब्धियां गिना रहे थे वहीं सभा स्थल पर कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ रही थी । हालांकि सभा स्‍थल पर समाजिक दूरी का पालन करने के लिए चिन्हित कर घेरा बनाया गया था लेकिन भीड़ को कंट्रोल करने में पुलिस नाकाम दिखी। वहीं कई लोग बिना मास्क के भी नजर आए। सभा के पहले और सभा के दौरान माइक पर बार-बार लोगों को मास्‍क लगाने और शारीरिक दूरी के पालन की हिदायत दी जा रही थी। इसके पहले लोगों को मैदान में प्रवेश से पूर्व प्रत्याशी की ओर से प्रत्येक को मास्क व सैनिटाइजर से हाथ को सुरक्षित किया जा रहा था। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए स्पेशल फोर्स, एवं महिला पुलिस की तैनाती भी की गई थी।

नीतीश कुमार ने अपने भाषण के दौरान कहा कि  हमने कोरोना काल में भी काफी काम किया। इसमें केंद्र सरकार ने भी पूर्ण सहयोग दिया। अब बिहार में मरीजों की रिकवरी रेट 94 प्रतिशत है। अपने कार्यों को गिनाते हुए 2005 के पहले की तस्वीर याद दिलाई और शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण के क्षेत्र में और प्रगति करने की बात कही ।

 जदयू प्रत्याशी को वोट देने की अपील 

 मुख्यमंत्री के आगमन से पूर्व जदयू बलिया प्रखंड अध्यक्ष की अध्यक्षता में स्थानीय एवं आगंतुक एनडीए के नेताओं का संबोधन कर रहे थे । भाजपा जिलाध्यक्ष राजकिशोर सिंह ने कहा कि 2005 का बिहार बद से बदतर था। 2020 के बिहार में विकास दिख रहा है। उन्होंने स्थानीय जदयू प्रत्याशी के पक्ष में वोट देने की अपील की। साहेबपुर कमाल विधानसभा जदयू प्रत्याशी शशिकांत शशि उर्फ अमर कुमार ने जनता और कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया। कहा कि जब से लॉकडाउन शुरू हुआ लगातार मुख्यमंत्री कार्य करते रहे हैं।

  किसी गरीब दलित की नहीं की उपेक्षा:

 इसके बाद बिहार का मुख्यमंत्री कैसा हो, नीतीश कुमार जैसा हो के नारों से चारों तरफ मैदान गूंज उठा। इसके बाद सीएम ने अपना भाषण शुरू किया। उससे पूर्व उन्होंने वहां उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि आप दुख को बर्दाश्त कर डटे हुए हैं इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। आगे उन्होंने अपने कार्य की तरफ इंगित करते हुए कहा कि हमने किसी गरीब दलित की उपेक्षा नहीं की। पहले न सड़कें थीं और न पढ़ाई के लिए स्कूल थे। स्वास्थ्य केंद्र भी अच्छी स्थिति में नहीं थे पर अब सब कुछ बदल गया है।

लडकियां भी पढ़ रहीं

  सूबे की शिक्षा के बारे में पूर्व सरकार से तुलना करते हुए उन्होंने कहा कि पहले पांचवी क्लास के बाद से बच्चे विद्यालय नहीं जाते थे। अब इतनी सुविधा है कि बच्चे स्कूल में मन लगाकर पढ़ रहे हैं। पहले लोग लड़कियों को स्कूल नहीं भेजते थे। अभिभावकों के मन में असुरक्षा की भावना थी, पर अब लड़कियों की संख्या लड़कों से अधिक है।

हर जिले में होगा इंजीनियरिंग, पॉलीटेक्निक कॉलेज

 आगामी कार्यों को बताते हुए कहा कि हर जिले में इंजीनियरिंग, पॉलटेक्निक कॉलेज, मेडिकल कॉलेज खोलने का काम कर रहे हैं। अब बच्चों को पढ़ने के लिए इधर-उधर जाने की जरूरत नहीं है।आगे मुख्यमंत्री जी ने कहा कि देश के आंकड़े में बिहार अपराध क्षेत्र में 23 वे दर्जे पर है। अब रात में भी लोग आराम से आ जा सकते हैं। किसी को डर नहीं लगता है।

  हर घर पहुंचाई बिजली :

 उन्होंने कहा कि सामाजिक समानता के लिए गरीबों महिलाओं, दलितों को रोजगार के लिए आरक्षण दिया। हर घर नल जल योजना, शौचालय निर्माण किया। अब किसी को घर के बाहर शौचालय जाने की जरूरत नहीं है। सभी के घर में शौचालय बनवा दिया गया है। हर घर बिजली भी पहुंच गई है । आगे की योजना बताते हुए उन्होंने कहा कि अब हर खेत बिजली, हर गांव सोलर लाइट लगाने का काम होगा। हर गांव में साफ सफाई, पर्यावरण संरक्षण व पशुओं के स्वास्थ्य पर ध्यान दिया जाएगा। पशु के बीमार होने पर मुफ्त इलाज करवाया जाएगा

 विपक्ष पर तंज:

विपक्षी पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें काम का कोई अनुभव नहीं है, हम तो काम कर के दिखा रहे हैं। फिर उपस्थित जनता से पूछते हुए उन्होंने कहा आप जिताएंगे न हां का जवाब मिलने पर उन्होंने उम्मीदवार को जीत की माला पहनाई। साथ ही अगले कार्यक्रम में जाने की इजाजत मांगी।

गौरतलब है कि सभा की तैयारी एवं सुरक्षा को लेकर बेगूसराय के डीएम अरविंद कुमार वर्मा एवं एसपी अवकाश कुमार ने शुक्रवार को सभास्थल का जायजा लिया था। जायजा के दौरान भवन निर्माण के कार्यपालक पदाधिकारी को मंच व हेलीपैड के निर्माण की जिम्मेदारी दी गई थी। अधिकारियों ने मंच और बैरेकेडिंग की मजबूती पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया था।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021