पटना [जेएनएन]। राजद विधायक व पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप के बाउंसर के साथ बिहार विधानसभा में एंट्री का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले को बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने काफी गंभीरता से लिया है। वे जानकारी मिलते ही विधान सभा पहुंचे तथा मामले की छानबीन में जुट गए। उन्होंने साफ कहा कि जो भी इस मामले में दोषी होंगे, उन पर कार्रवाई की जाएगी। उधर बताया जा रहा है कि सुरक्षाकर्मियों को निलंबित किया जा सकता है। डीजीपी ने इस बाबत पटना एसएसपी को भी आवश्‍यक निर्देश दिये हैं। 

दरअसल बिहार विधान सभा के बजट सत्र में बुधवार को उस समय हलचल मच गया, जब राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजप्रताप यादव अपने बाउंसर के साथ वहां पहुंच गए। इतना ही नहीं, 8 नंबर गेट से वे बाउंसर के साथ अंदर पहुंच गए। परिसर में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें रोका तक नहीं। बाद में जब मामला उजागर हुआ तो मार्शल ने भी चुप्पी साध ली।  

लेकिन यह मामला ज्यादा देर तक दबा नहीं रह सका। मामला डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के संज्ञान में आया। उन्होंने बिना देर किये विधानसभा पहुंचे। सुरक्षाकर्मियों की क्लास लगा दी। उन्होंने कहा क​हा कि मामले की छानबीन की जा रही है। जांच के बाद जो भी दोषी पाए जाएंगे, उन पर कार्रवाई की जाएगी। 

वहीं तेजप्रताप ने कहा कि अगर सरकार सुरक्षा देगी तो वे निजी सुरक्षाकर्मियों को नहीं लाएंगे। बता दें कि इसके पहले भी जनता दरबार में तेजप्रताप आरोप लगा चुके हैं कि उनकी जान को खतरा है। कभी उन पर हमले किये जा सकते हैं। बहरहाल विधानसभा में सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही का मामला तूल पकड़ लिया है। और चर्चा है कि सुरक्षागार्डों पर निलंबन की कार्रवाई हो सकती है।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस