पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Mukhyamantri Yuva Udyami Yojana: बिहार में औद्योगीकरण और उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने अब तक की सबसे खास योजना लांच की है। इस योजना में बगैर किसी ब्‍याज के उद्योग स्‍थापित करने के लिए 10 लाख रुपए तक लोन (Interest Free Loan in Bihar) मिल सकेगा। और तो और इस योजना में लोन का आधा हिस्‍सा ही यानी केवल पांच लाख रुपए ही चुकाना होगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) ने शुक्रवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना (Bihar Mukhyamantri Mahila Yojana) तथा मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना का आरंभ किया। इन योजनाओं के लिए आवेदन किए जाने को बने पोर्टल को भी उन्होंने लांच किया। विस्‍तृत जानकारी के लिए पूरी खबर देखें।

पांच लाख रुपए अनुदान देगी सरकार

इन योजनाओं के तहत उद्योग लगाने के लिए अधिकतम 10 लाख रुपये सरकार उपलब्ध कराएगी, जिसमें पांच लाख रुपये का अनुदान होगा। इसके अलावा पांच लाख रुपये के ऋण पर महिलाओं को ब्याज नहीं लगेगा, जबकि युवा उद्यमियों को एक प्रतिशत का ब्याज देना होगा। सरकार के सात निश्चय-2 में इन योजनाओं का जिक्र था। इस योजना के तहत आवेदन के लिए (https://udyami.bihar.gov.in/" rel="nofollow) पर लिंक उपलब्‍ध है। डायरेक्‍ट आवेदन करने के लिए (https://udyamiuser.bihar.gov.in/" rel="nofollow) पर जाएं। आवेदन करने से पहले नियमों को सही तरीके से देख और समझ लें। इसके लिए उपयोगकर्ता पुस्तिका संबंधित पोर्टल पर उपलब्‍ध है। आप चाहें तो डायरेक्‍ट उपयोगकर्ता पुस्तिका तक जाने के लिए यहां क्लिक करें।

महिलाओं व युवाओं में उद्यमिता विकास व स्वरोजगार को बढ़ावा

मुख्यमंत्री ने वीडियो कान्न्फ्रेंसिंग के माध्यम से इन दोनों योजनाओं के आरंभ पर कहा कि इन योजनाओं से महिलाओं एवं युवाओं में उद्यमिता विकास एवं स्वरोजगार को और बढ़ावा मिलेगा। हम लोगों का आरंभ से उद्देश्य रहा है कि महिलाएं सक्षम एवं आत्मनिर्भर बनें।

सभी वर्ग की महिलाओं व युवाओं को लाभ

मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं को उद्यमिता के प्रति आकर्षित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना को शुरू किया गया है। इसमें सभी वर्ग की महिलाएं उद्यमिता के क्षेत्र में आगे आएंगी। इसी तरह सभी वर्ग के युवाओं में उद्यमिता को आकर्षित किए जाने को केंद्र में रख मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना शुरू की गयी है।

आरंभ से ही महिला सशक्तीकरण रहा उद्देश्य

मुख्यमंत्री ने कहा 2005 में सरकार में आने के बाद से उन्होंने महिलाओं के उत्थान एवं सशक्तीकरण को लेकर कई कदम उठाए। आरंभ से यह उद्देश्य रहा है कि महिलाएं सक्षम एवं आत्मनिर्भर बनें। हमारा मानना है कि राज्य का विकास तभी होगा, जब पुरुष के साथ महिलाएं भी काम करेंगी। महिलाओं की भागीदारी सभी जगहों पर बढ़ी है। जब महिलाएं आगे बढ़ेंगी तभी सही मायने में समाज आगे बढ़ेगा और राज्य की प्रगति होगी।

  • मुख्यमंत्री ने महिला उद्यमी योजना व युवा उद्यमी योजना का किया आरंभ
  • उद्योग लगाने के लिए अधिकतम दस लाख रुपये मिलेंगे, जिसमें पांच लाख अनुदान
  • महिला उद्यमियों को मिलेगा ब्याज मुक्त ऋण व युवा उद्यमियों को ऋण पर एक प्रतिशत का ब्याज

उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने भी रखे विचार

सीएम ने कहा कि बिहार में जिस तत्परता एवं सामंजस्य से काम किया जा रहा है, उससे राज्य में उद्योग बढ़ेगा। राज्य की तरक्की होगी और बिहार विकसित राज्य बनेगा। उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने भी कार्यक्रम में अपने विचार रखे। उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा ने एक प्रेजेंटेशन के माध्यम से मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना एवं मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

कार्यक्रम में ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, चंचल कुमार, सचिव अनुपम कुमार और विशेष कार्य अधिकारी गोपाल सिंह मौजूद थे। वहीं वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन, मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण, विकास आयुक्त आमिर सुबहानी, उद्योग विभाग के सचिव नर्मदेश्वर लाल व उद्योग विभाग के अन्य आला अधिकारी जुड़े थे। सभी जिला उद्योग केंद्रों के महाप्रबंधक भी कार्यक्रम से जुड़े थे।