पटना, जेएनएन। बिहार बोर्ड के मैट्रिक परीक्षा के दौरान शुक्रवार को अरवल जिले के फतेहपुर संडा कॉलेज स्थित परीक्षा केंद्र से पकड़े गए एक मुन्नाभाई ने पुलिस के सामने एेसी कहानी सुनायी जिसे सुनकर पुलिस ने भी कहा-हद हो भाई। मुन्नाभाई ने यह बताया कि उसके एक अभिन्न मित्र ने उसे यह जानकारी दी कि मेरी मां की मौत हो गई है। उसके कारण मेरी मैट्रिक की परीक्षा छूटने वाली है। यदि तुम मेरी जगह उस परीक्षा में बैठ जाओ तो मेरा कल्याण हो जाएगा।

फिस उसने बताया कि हालांकि उसकी मां की मौत नहीं हुई थी बल्कि वह एक नाबालिग लड़की को लेकर भाग निकला था। भाग जाने के कारण ही उसकी परीक्षा छूट रही थी।

इस परीक्षा केंद्र से गिरफ्तार यह मुन्नाभाई परासी थाना क्षेत्र के मीर्जा बिगहा निवासी सोनू कुमार है। उसने बताया कि वह अपने साथी फखरपुर निवासी सुधीर कुमार की जगह परीक्षा दे रहा था। उसी ने फोन कर कहा था कि मेरी मां की मौत हो गई है। अपनी गलती को छुपाने और इस प्रकार अपनी जगह साथी को परीक्षा में बैठाने की उसकी नौटंकी से सभी लोग हैरान हैं। हालांकि पुलिस द्वारा सोनू के साथ ही सुधीर के खिलाफ भी परीक्षा अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। 

वहीं, औरंगाबाद जिले में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित मैट्रिक परीक्षा के पांचवे दिन शुक्रवार को दाउदनगर के बालिका इंटर स्कूल परीक्षा केंद्र से एक मुन्ना भाई को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार रोहित दाउदनगर थाना के पत्थरकट्टी गांव का निवासी है। पूछताछ में रोहित ने बताया कि वह अपने भाई के बदले परीक्षा दे रहा था।

प्रवेश पत्र जांच के दौरान पकड़ा गया। केंद्राधीक्षक ने उसे पकड़कर थाना को सौंप दिया। मामले में थानाध्यक्ष ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर आरोपित के ऊपर कार्रवाई की जा रही है। जिला शिक्षा पदाधिकारी मोहम्मद अलीम ने बताया कि 867 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। 

 

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस