पटना, जेएनएन। अगर आपभी नया मोबाइल खरीदने जा रहे हैं तो ये खबर आपके काम की है। शातिर अब मोबाइल का आइएमईआइ नंबर बदल कर बेच रहे हैं। पटना में चोरी और लूट के मोबाइल का आइएमईआइ (इंटरनेशनल मोबाइल इक्युपमेंट आइडेंटिटी) नंबर बदलने वाले पांच दुकानदारों को आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की टीम ने मंगलवार को कोतवाली थाने की पुलिस के सहयोग से धर दबोचा। उनके पास से बरामद उपकरण, कंप्यूटर, हार्ड-डिस्क और मोबाइल को जांच के लिए एफएसएल (फोरेंसिक साइंस लैब) भेजा जाएगा। देर रात तक मामले में जांच चलती रही। कार्रवाई से दुुकान में सनसनी मच गई।

गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई

आर्थिक अपराध इकाई को सूचना मिली कि राजधानी में चोरी के मोबाइल धड़ल्ले से बिक रहे हैं। मात्र पांच सौ रुपये लेकर दुकानदार चोरी और लूट के मोबाइल का IMEI नंबर बदल देते हैं। इसके बाद वही मोबाइल नए डिब्बे में पैक करके बेचे जा रहे हैं। यह खेल एक सॉफ्टवेयर के माध्यम से किया जाता है, जो मोबाइल का मीडिया एक्सेस कंट्रोल (एमएसी) एड्रेस बदल देता है।

तकनीक विशेषज्ञ की ली मदद

इसके लिए ईओयू ने तकनीक विशेषज्ञ राजन सिंह की मदद ली। राजन के नेतृत्व में टीम का गठन कर हरि निवास कॉम्प्लेक्स की आधा दर्जन दुकानों में छापेमारी की गई। दो दुकान से पांच आरोपितों को पकड़ा गया। पुलिस ने उनके हार्ड-डिस्क को जब्त कर एफएसएल भेजा है, जिससे मालूम हो जाएगा कि उन्होंने अब तक कितने मोबाइल सेट का आइएमईआइ नंबर और एमएसी एड्रेस बदला है।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप