सिवान, जागरण टीम। सिवान में जहरीली शराब का तांडव तीसरे दिन भी जारी है। गुठनी प्रखंड के बेलौड़ी गांव में रविवार की रात तीन लोगों की शराब पीने के बाद मौत हो गई थी। अब इसी गांव में तीन और लोगों की तबीयत खराब होने की बात सामने आ रही है। इनमें से एक की मौत हो गई है। बगल के गांव बेलौर के भी एक शख्‍स की मौत शराब पीने के कारण ही हुई है। मृतकों के स्‍वजन लगातार ही शराब पीने की बात कह रहे हैं। बीमार होने वाले लोगों में से एक ने बताया है कि उन्‍होंने शराब पी थी। हालांकि, प्रशासन अभी पोस्‍टमार्टम और मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है। डीएम और एसपी का साफ तौर पर कहना है कि जांच रिपोर्ट मिलने के बाद ही मौत और लोगों के बीमार होने की वजह स्‍पष्‍ट होगी।

बताया जा रहा है कि गांव के कई लोगों की तबीयत सोमवार को अचानक बिगड़ने लगी। इनको तुरंत सदर अस्पताल में रेफर कर दिया गया। इसमें एक पीड़ित की आंख की रोशनी चली गई है। पीड़ित समहारु राम, नेबुलाल चौहान, हरिंद्र चौहान  का सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं रात्रि में विनोद यादव पिता रामगोविंद यादव को गंभीर हालत में सदर अस्पताल रेफर किया गया और सुबह में घर भेज दिया गया है। इनकी आंख की रोशनी चली गई है। इन्होंने बताया कि रविंद्र राम ने ही उन्‍हें शराब पीने के लिए दी थी।

स्वजनों ने बताया कि सभी ने बीती रात पी रखी थी अत्यधिक शराब

सिवान मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर व यूपी बार्डर से पहले गुठनी प्रखंड के बलौड़ गांव में रविवार की देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में चार लोगों की मौत हो गई थी। स्वजनों ने इनकी मौत का कारण अत्यधिक शराब का सेवन बताया है। हालांकि प्रशासन इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।  मृतकों की पहचान गुठनी थाना क्षेत्र के बेलौरी निवासी मोहन राम के 35 वर्षीय पुत्र मनोज राम, गफूर मियां के पुत्र अनवर मियां व 65 वर्षीय दुखहरण राम के रूप में हुई थी। एक अन्य व्यक्ति बेलौरी निवासी दिगंबर राम के 45 वर्षीय पुत्र रविंद्र राम की मौत सोमवार की देर शाम हो गई। रविंद्र राम की पत्नी बेबी देवी व चार पुत्र व दो पुत्रियों का रो-रोकर बुरा हाल है। रविंद्र के भतीजे राजू कुमार राम ने बताया कि सदर अस्पताल ले जाने के क्रम में उनकी मौत हो गई। स्वजनों के अनुसार सभी की मौत में लक्षण एक समान थे।

सूचना मिलने पर आनन-फानन जिला मुख्यालय से एसपी अभिनव कुमार, एडीएम रमण कुमार, एसडीओ रामबाबू बैठा, मैरवा, गुठनी और दरौली थानाध्यक्ष दलबल के साथ पहुंचे और जांच में जुट गए। सोमवार की सुबह स्वजन दाह संस्कार करने की तैयारी में थे, लेकिन पुलिस ने स्वजनों को पोस्टमार्टम के बाद दाह संस्कार करने की बात कह मनोज राम और अनवर के शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। दुखहरन राम का स्वजनों ने मैरिटार स्थित नदी घाट पर पुलिस के पहुंचने के पूर्व दाह संस्कार कर दिया था।

जानकारी के अनुसार बेलौड़ गांव यूपी के बार्डर से कुछ दूरी पर है। चोरी छिपे लोग शराब का सेवन करने यूपी जाते हैं या धंधेबाज गांव में शराब लाकर बिक्री करते हैं। रविवार की रात चारों ने काफी शराब पी रखी थी। आधी रात को मनोज राम की तबीयत बिगड़ गई और उसकी मौत हो गई। थोड़ी देर में ही अनवर और दुखहरण की भी मौत की सूचना लोगों को मिली। सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई। जिला प्रशासन मामले की जांच में जुट गया।

जिलाधिकारी अमित कुमार पांडेय ने कहा कि शराब से मौत हुई है या नहीं, यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा। मेडिकल टीम का गठन कर गांव के कुछ अन्य लोगों के स्वास्थ्य की जांच का आदेश दिया गया है। प्रशासन मामले की जांच कर रहा है, जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।