पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar CoronaVirus Third Wave Alert कोरोनावायरस संक्रमण (CoronaVirus Infection) की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए अन्य राज्यों से बिहार की सीमा में आने वाले यात्रियों पर अब स्वास्थ्यकर्मियों की नजर रहेगी। विशेषकर केरल, महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों पर विशेष ध्यान रहेगा। कोशिश होगी कि अधिक से अधिक यात्रियों की कोरोना जांच (CoronaVirus Test) हो। जांच में यदि किसी व्यक्ति में संक्रमण के लक्षण मिलते हैं या वह पाजिटिव (CoronaVirus Positive) पाया जाता है तो उसे 10 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन किया जाएगा।

यात्रियों के आरटी-पीसीआर जांच कराने के निर्देश

पिछले शुक्रवार से सोमवार के बीच मधुबनी जिले में कुछ अन्य राज्यों से आए यात्रियों की जब कोरोना जांच की गई तो 65 के सैंपल संदिग्ध पाए गए। एक साथ अन्य राज्यों से आए यात्रियों के सैंपल संदिग्ध मिलने पर स्वास्थ्य विभाग ने सभी यात्रियों के आरटी-पीसीआर जांच कराने के निर्देश दिए हैं।

बाहर से बिहार आए यात्रियों की होगी रैंडम जांच

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और राज्य स्वास्थ समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने बताया कि 65 संदिग्धों के साथ कुल 148 लोगों के सैंपल आरटी-पीसीआर के लिए भेजे गए। सभी सैंपल की जांच रिपोर्ट बुधवार को नेगेटिव आई। उसके बाद जिस बैच के एंटीजन किट से जांच हुई थी, उस बैच को जांच के लिए भेजा गया है। इसके साथ ही विभाग ने यह फैसला लिया है कि अन्य राज्यों से बिहार की सीमा में ट्रेन और बस से आए यात्रियों की रैंडम जांच कराई जाएगी।

रिपोर्ट पाजिटिव मिली तो किया जाएगा क्वारंटाइन

मंगल पांडेय ने कहा कि जिलों के डीएम-सिविल सर्जनों को निर्देश भेजे गए हैं कि अधिक से अधिक यात्रियों की जांच करें। यदि किसी को रिपोर्ट पाजिटिव मिलती है तो उसे क्वारंटाइन करें और इसकी जानकारी स्वास्थ्य मुख्यालय को भी मुहैया कराएं। कार्यपालक निदेशक ने कहा कि बाहर से आने वाले यात्री सर्विलांस पर रहेंगे। टेस्ट में यदि पाजिटिव पाए जाते हैं तो वे अपने घर में क्वारंटाइन रहेंगे और इस दौरान आशा कार्यकर्ता उनकी प्रत्येक दिन की रिपोर्ट लेकर स्वास्थ्य विभाग को अवगत कराएंगी।

Edited By: Amit Alok