पटना, अंकिता भारद्वाज। Amazing Celestial Event: आज परछाईं भी साथ छोड़ देगी। यह जान कर आपको ताज्‍जुब होगा, लेकिन यह सच है। यह कोई टोना-टोटका नहीं बल्कि एक विशुद्ध वैज्ञानिक और खगोलीय घटना है। दरअसल, 21 जून साल का सबसे लंबा दिन होता है। इस दिन उत्तरी गोलार्ध में मौजूद सभी देशों में दिन लंबा और रात छोटी होती है। वहीं, साल का वो खास दिन होता है जब कुछ देर के लिए परछाई भी आपका साथ छोड़ देती है। पटना स्थित श्रीकृष्‍ण विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक की मानें तो 21 जून के दिन सूरज बहुत ऊंचाई पर होता है। इस दिन से रातें लंबी होने लगती हैं। वहीं, 23 सितंबर को दिन व रात बराबर हो जाता है। वहीं, 23 सितंबर से रातें लंबी होने लगती हैं। यह सिलसिला 23 दिसंबर तक चलता है। इस हफ्ते ज्‍योतिष की दृष्टि से भी महत्‍वपूर्ण बदलाव होने हैं।

आज कर्क रेखा की बिल्‍कुल सीध में आ जाएगा सूर्य

विज्ञान केंद्र के निदेशक अमिताभ के अनुसार, सूर्य उत्तरी गोलार्ध से कर्क रेखा में आ जाता है। इसलिए इस दिन सूर्य की किरणें धरती पर ज्यादा समय के लिए पड़ती हैं। आज कर्क रेखा पर दोपहर के वक्‍त चंद पलों के लिए परछाई दिखनी बंद हो जाएगी। पटना में भी उस वक्‍त बेहद छोटी परछाई ही दिखेगी। इस दिन सूर्य की रोशनी धरती पर करीब 15-16 घंटे तक पड़ती है। इसके कारण 21 जून को साल का सबसे लंबा दिन होता है। कभी-कभी 22 जून को भी बड़ा दिन होता है। पहली बार 1975 में 22 जून को साल का सबसे बड़ा दिन हुआ था, वहीं अब ये 2203 में देखने को मिलेगा।

ग्रहों की चाल में ज्‍योतिष के लिहाज से महत्‍वपूर्ण परिवर्तन

ज्‍योतिष के मुताबिक 20 से 24 जून के बीच तीन ग्रहों की चाल में महत्‍वपूर्ण बदलाव होना है। इसका असर राजनीतिक उथल-पुथल के तौर पर देखने को मिल सकता है। 20 जून को ही बृह‍स्‍पति ग्रह कुंभ राशि में वक्री हो गया है। इससे प्राकृतिक आपदा की स्थिति भी बन सकती है। 22 जून को शुक्र मिथुन राशि से निकल कर कर्क राशि में चले जाएंगे। वहीं 23 जून से बुध वृष राशि में रहते हुए टेढ़ी चाल छोड़कर सीधे चलने लगेंगे।