पटना सिटी, जागरण संवाददाता। कोरोना काल में एक साल तक बिजली बिल नहीं जमा करने वालों की बत्ती गुल करने के अभियान में विद्युत कर्मी जोर-शोर से जुटे हैं। अभियान के तहत प्रथम चरण में पटना सिटी एवं गुलजारबाग प्रमंडल अंतर्गत सभी अपार्टमेंट के फ्लैट निशाने पर हैं। लगभग एक हजार उपभोक्ताओं की बिजली काटी गयी है। इन पर लगभग पांच करोड़ रुपया बकाया है। अभियंता का कहना है कि 50 फीसदी उपभोक्ताओं ने बकाया बिल का पार्ट पेमेंट किया है। भुगतान के लिए रविवार को भी सभी बिल काउंटर खोला जा रहा है।

एक साल से नहीं किया बिजली बिल का भुगतान

विद्युत आपूर्ति प्रमंडल गुलजारबाग के कार्यपालक अभियंता पुष्कर कुमार ने बताया कि लगभग पांच सौ वैसे उपभोक्ताओं की बिजली काटी गई है जिन्होंने एक साल से बिल भुगतान नहीं किया है। इन सभी पर एक करोड़  रुपए से अधिक का बकाया है। उन्होंने बताया कि यह सभी उपभोक्ता अपार्टमेंट्स के फ्लैट में रहने वाले हैं। शेष नौ सौ से अधिक उपभोक्ताओं के बिजली काटी जानी है। इन सभी पर लगभग दो करोड़ रुपया बकाया है।

कॉमर्शियल उपभोक्‍ताओं पर भी गिरी गाज

वही विद्युत आपूर्ति प्रमंडल पटना सिटी के कार्यपालक अभियंता सुजीत कुमार सिन्हा ने बताया कि उनके क्षेत्र अंतर्गत सभी अपार्टमेंट के बकायेदार उपभोक्ताओं की सूची तैयार की गई है। इन सभी पर लगभग ढाई करोड़ रुपया बकाया है। एक साल से बिजली बिल का भुगतान नहीं करने वाले 541 से अधिक उपभोक्ताओं का बिजली कनेक्शन काटा गया है। इनमें कई कॉमर्शियल उपभोक्ता भी शामिल हैं। अभियान के तहत शेष उपभोक्ताओं का भी बिजली कनेक्शन काटने की प्रक्रिया जारी है।

दो डिवीजन मिलाकर हैं कुल 52 हजार उपभोक्‍ता

अभियंताओं ने बताया कि बिजली कटने के बाद लगभग आधे उपभोक्ताओं ने आकर बकाया का इंस्टॉलमेंट कराया और इसका भुगतान भी किया है। उन्होंने कहा कि बिल भुगतान को लेकर शिथिलता बरत रहे उपभोक्ताओं के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी है। अपार्टमेंट्स के उपभोक्ताओं के बाद दोनों डिवीजन के लगभग 52 हजार विद्युत उपभोक्ताओं में शामिल बकायेदारों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

परीक्षाओं से ठीक पहले बिजली कटने से मुश्किल

इस पूरे मामले पर विद्युत उपभोक्ताओं का कहना है कि कोरोना काल में रोजगार तथा कारोबार प्रभावित होने के कारण आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। घर का खर्च चलाना मुश्किल हो रहा है। ऐसे हालात के बीच बिजली का बिल जमा करना परेशानी का कारण बना है। 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा सिर पर है। इस बीच बिजली काट दिए जाने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। उपभोक्ताओं ने एक साल के बकाया बिल को किश्तवार जमा करने की रजामंदी दिए जाने की मांग विद्युत विभाग के उच्चाधिकारियों से की है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप