पटना, जेएनएन। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता हैं और शारीरिक अस्वस्थता के कारण रांची के होटवार जेल से उन्हें रिम्स में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है। लालू यादव की मुश्किलें अब भी कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पहले से ही वो कई मामलों में सजा काट रहे हैं और अब उनके खिलाफ एक और प्रोडक्शन वारंट जारी करने का आदेश दिया गया है।

दरअसल, मानहानि के एक मामले में एमपी-एमएलए कोर्ट के विशेष न्यायिक दंडाधिकारी ने सोमवार को राजद प्रमुख व पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी करने का आदेश दिया है। यह आदेश रांची स्थित होटवार जेल प्रशासन को दिया गया है। कोर्ट की तरफ से जारी इस आदेश में कहा गया है कि लालू प्रसाद को अदालत में दो दिसंबर को पेश किया जाए। यह जानकारी अधिवक्ता विनय शंकर दुबे ने दी। इस मामले में परिवादी उदय कांत मिश्रा हैं। 

अधिवक्ता विनय शंकर दुबे ने बताया कि भागलपुर में राष्ट्रीय जनता दल की रैली हुई थी। उस रैली के दौरान लालू प्रसाद यादव ने जनता को संबोधित किया था और अपने संबोधन के दौरान लालू प्रसाद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर आपत्तिजनक टिप्पणी भी की थी। अपने संबोधन में लालू प्रसाद ने यह भी कहा था कि सृजन घोटाला के जन्मदाता उदय कांत मिश्रा हैं। 

मानहानि के इसी मामले में बेउर जेल अधीक्षक भी सोमवार को कोर्ट में उपस्थित हुए। अदालती आदेश का पालन नहीं करने के मामले में बेउर जेल के अधीक्षक की पेशी हुई थी। जिसके बाद अदालत ने बेउर जेल अधीक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। पेशी के दौरान अधीक्षक ने अदालत को जानकारी दी कि मामला बेउर जेल से संबंधित नहीं है। लालू प्रसाद वर्तमान में चारा घोटाला के मामले में रांची स्थित जेल में सजा काट रहे हैं। 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप