नवादा। थाना क्षेत्र के चितरकोली पंचायत की गोपालपुर गांव के महादलित टोला के लोग गर्मी शुरू होते ही पानी की किल्लत से जूझने लगे हैं। गोपालपुर निवासी समाजसेवी रामू यादव ने बताया कि गर्मी के शुरू होते ही महादलित टोले के लोगों को पानी की किल्लत झेलनी पड़ रही है। महादलित टोले के लोग पानी के लिए यहां एनएच-31 के किनारे संचालित लाइन होटलों पर निर्भर हो गए है। लोग लाइन होटलों के पास इस इंतजार में बैठे रहते हैं कि कब यहां का होटल मालिक पम्प सेट चालू करें और हमें पानी नसीब हो। यहां के लोग होटलों के समीप लाइन लगा कर पानी लेते नजर आते हैं। यह कार्य उनकी दिनचर्या में शामिल हो गया है। सुबह पहले दिन भर के लिए पीने की पानी का जुगाड़ करते हैं। उसके बाद ही दूसरे काम में लगते हैं। यहां कि स्थिति सरकार के द्वारा संचालित हर घर नल जल योजना कि पोल खोलती नजर आती है। बताते चलें कि चितरकोली पंचायत की मुखिया भी गोपालपुर गांव के ही हैं। फिर महादलित टोले में सरकार की योजनाओं का लाभ नहीं पहुंच रहा है। सिर्फ मुखिया ही नहीं प्रखंड प्रमुख जो कि सभी सोलह पंचायतों का प्रतिनिधित्व करते हैं वे भी इसी गांव गोपालपुर के ही निवासी हैं। फिर महादलित टोले में पानी की किल्लत सरकार की व्यवस्था पर सवाल खड़ा करने के लिए काफी कहा जाएगा। महादलित टोले के बिनोद तुरिया, पोखन तुरिया, अरूण तुरिया, राजो तुरिया, बजरंगी तुरिया समेत दर्जनों ग्रामीणों ने बताया कि यहां अंग्रेजों के जमाने से ही एक कुआं है। जिसका पानी लोग पीते थे, लेकिन गर्मी के मौसम शुरू होते ही पानी का लेयर घट रहा है। जिसके कारण कुआं का पानी जमीन की सतह तक पहुंच गया है। जिससे मिट्टी घुला पानी निकलता जो पीने के लायक नहीं है। वहीं एक सरकारी चापाकल लगाया गया था जो कि महीनों से खराब पड़ा हुआ है। ऐसे में मजबूरन लाइन होटलों के सहारे पानी कि किल्लत को दूर करना पड़ता है।

By Jagran