चैत माह में ही नवादा का तापमान 41 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। इसमें और वृद्धि की संभावना है। पछुआ हवा के चलने से दिन भर लोग परेशान रहे। सुबह से ही गर्म पछुवा हवा के चलने से खेतों में काम करने वालों को दस बजते-बजते काम बंद करने पर मजबूर होना पड़ा। हालात यहां तक पहुंच गया कि बिजली का पंखा से भी लोगों को राहत नहीं मिल रही थी। रविवार को अधिकतम तापमान 41 व न्यूनतम 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सोमवार को इसमें और वृद्धि की संभावना है। तापमान 42-43 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की संभावना है। बुधवार को हल्की बारिश का पूर्वानुमान है। ऐसा हुआ तो तापमान में कमी आ सकती है। इस प्रकार आसमान से बरस रहे आग के गोले ने हर तबके के लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी है। तेज पछुआ हवा से सड़कों पर सन्नाटा पसर जाने लगा है। तो खेत- खलिहान से लेकर घरों में अग्निकांड की घटना में वृद्धि होनी शुरू हो गई है। चैत माह में 41 डिग्री सेल्सियस तक पारा पहुंचने से पेयजल की समस्या उत्पन्न होनी आरंभ हो गई है। किसान व मजदूर शीतल छाया की तलाश में इधर-उधर भटक रहे हैं तो बाजारों में ठंडे पेय की मांग बढ़नी आरंभ हो गई है।

Posted By: Jagran