नवादा: कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने पूरे देश में तबाही मचा दिया। इससे कई लोगों ने अपने परिवार के सदस्य को हमेशा के लिए खो दिया। कई लोग आज भी संक्रमण से जूझ रहे हैं। हालांकि पहले की अपेक्षा संक्रमण की रफ्तार काफी थम गई है। लेकिन आज भी लोगों को गाइडलाइन का पालन करते हुए सतर्क रहना जरूरी है। सरकार की ओर से समाज के हरेक वर्ग को सर्तकता बरतने की सलाह दी जा रही है। बावजूद लोग गाइडलाइन पालन नहीं कर रहे हैं। रविवार की दोपहर नगर बाजार के कई स्थानों की पड़ताल की गई। जहां लोगों द्वारा गाइड लाइन का पालन नहीं किया जा रहा था। भीड़-भाड़ वाले इलाके में भी लोग बिना मास्क लगाए बेपरवाह होकर घूमते दिखे। लोगों द्वारा शारीरिक दूरी का भी पालन नहीं किया जा रहा था। ऐसे में थोड़ी सी लापरवाही लोगों के लिए भारी पड़ सकती है।

-----------------------

12:30 बजे मेन रोड का ²श्य

- नगर के मेन रोड इलाका में कपड़ा, होटल, जेनरल स्टोर, किराना समेत अन्य सैंकड़ो दुकानें संचालित होती है। सुबह से देर रात तक इस इलाके में लोगों की भीड़-भड़ लगी रहती है। रविवार की दोपहर करीब 12:30 बज रहे थे। दैनिक जागरण की टीम मेन रोड इलाके में पहुंची तो देखा कि दुकानों में खरीदारों की भीड़ लगी थी। सड़कों पर भी लोगों की भीड़ थी। अधिकांश लोग बिना मास्क लगाए बेपरवाह होकर घूम रहे थे। यहां तक की दुकानदार भी बिना मास्क लगाकर बैठे दिखे। लोगों द्वारा शारीरिक दूरी का भी पालन नहीं किया जा रहा था।

-------------------------

12:50 विजय बाजार का ²श्य

- दोपहर करीब 12:50 बजे विजय बाजार पहुंचे। इस इलाके में अधिकांश दुकानें कपड़ों की है। जहां सुबह से देर रात लोगों का आना-जाना लगा रहता है। इस इलाके में सैंकड़ों दुकानें संचालित होती है। अधिकांश दुकानदार बिना मास्क लगाकर सामग्री बेचने में व्यस्त दिखे। सड़कों पर पैदल चलने वाले राहगीर भी बिना मास्क लगाकर घूमते दिखे। इस इलाके में गाइडलाइन का खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। जबकि इस इलाके से हमेशा प्रशासनिक पदाधिकारियों का वाहन गुजरते रहता है। बावजूद लोगों द्वारा नियमों की अनदेखी की जा रही है।

---------------------------

1:15 बजे नवादा-पटना बस पड़ाव का ²श्य

- जब 1:15 बजे नगर के शहीद भगत सिंह चौक स्थित बिहार राज्य पथ परिवहन निगम बस पड़ाव पहुंचा तो पटना जाने के लिए बस लगी थी। जिस पर कई यात्री पटना जाने के लिए बैठे थे। अधिकांश यात्री बिना मास्क लगाकर बैठे थे। बस संचालकों द्वारा एक सीट पर दो-तीन यात्री बैठाया जा रहा था। जबकि सरकार द्वारा एक सीट पर एक यात्री बैठाने का नियम बनाया गया है। वाहन संचालकों द्वारा मोटी कमाई के चक्कर में एक से अधिक यात्रियों को बैठाया जा रहा है। शारीरिक दूरी के नियमों का भी पालन नहीं किया जा रहा है। ऐसे में नियमों की अनदेखी लोगों के लिए बड़ी समस्या खडा सकता है। अगर समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

Edited By: Jagran