जिला मत्स्य कार्यालय में सोमवार को आयोजित जलकरों की बंदोबस्ती का मामला विवादों में आ गया है। डाक में भाग लेने पहुंचे कुछ लोगों ने बोली लगाने से वंचित करने का आरोप लगाया है। आरोप है कि 11 बजे से बोली लगनी थी, लेकिन जिला मत्स्य पदाधिकारी बिना किसी सूचना के कार्यालय से चले गए। डाक में भाग लेने पहुंचे कई लोगों ने आपत्ति जताते हुए जिला मत्स्य पदाधिकारी इकबाल हुसैन की मंशा पर सवाल खड़ा किया। कहा कि जिला मत्स्य पदाधिकारी बिहार जलकर प्रबंधन अधिनियम का अनुपालन नहीं कर रहे हैं। और गुपचुप तरीके से डाक करवाने का प्रयास कर रहे हैं। सदस्यों को कहना है कि पूछे जाने पर गोल मटोल जबाब देते हैं। इस बावत जब जिला मत्स्य पदाधिकारी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जलकरों की बंदोबस्ती पारदर्शी तरीके से होगी। डाक बोलने के लिए आए कुछ लोग अकारण हंगामा करने लगे। जिसके कारण बंदोबस्ती का काम स्थगित कर दिया गया। अब गुरुवार को बंदोबस्ती का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी डाक वक्ताओं का नाम कार्यालय के सूचना पट्ट पर प्रदर्शित कर दी गई है। किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं होगी। सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप बंदोबस्ती की जाएगी। उन्होंने कहा कि आपसी गुटबाजी में कुछ लोग इस तरह के आरोप लगा रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप