नवादा। अपसढ़ गांव के कंचनपुरी महादलित टोला में मजदूर ताले मांझी की हत्या के बाद उत्पन्न स्थिति पर काबू पाने और पीड़ितों की सुरक्षा के लिए पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है। टोले के लोग दहशत में हैं। इधर, आरोपित धर्मेंद्र उर्फ धारो की गिरफ्तारी के पुलिस उसके पैतृक गांव जिले के धमौल थाना क्षेत्र के अंजुनार गांव सहित अन्य सभी संभावित ठिकानों को खंगाल रही है। लेकिन वह पुलिस गिरफ्त से दूर है। बता दें कि यह मामला काफी संवेदनशील हो गया है। घटना की खबर जिले में सुबह से ही हो रही थी। लेकिन पुलिस ऐसी किसी घटना की जानकारी से इंकार कर रही थी। लेकिन, बात उच्चाधिकारियों तक पहुंची तब थाना से लेकर जिले के एसपी तक वहां पहुंचे और फिर सबकुछ सामने आ सका। बहरहाल, मामला तूल पकड़ता दिख रहा है। आरोप की जद में सत्तापक्ष के विधायक के रिश्तेदार का नाम आने के बाद विपक्षी पार्टियां सक्रिय हो चुकी है। हालांकि, विधायक अरुणा देवी इस मामले से अपना पल्ला झाड़ चुकी है। विधायक व उनके पति घटना की रात खुद गांव या इलाके में नहीं थे। फिर भी विपक्षी दलों का प्रहार विधायक व प्रशासन दोनों पर होगा। ऐसे में पुलिस आरोपित को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजने की कवायद में है।

Posted By: Jagran