प्रखंड के भदसेनी गांव में शनिवार की दोपहर शार्ट-सर्किट से आग लगने से करीब 22 एकड़ खेतों में लगी गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। बिजली विभाग की लापरवाही के कारण इतनी बड़ी घटना घटी।

ग्रामीणों ने बताया कि झूलता बिजली का तार की ओर विभाग द्वारा ध्यान नहीं दिए जाने से ऐसी घटना हुई। जबकि ग्रामीणों द्वारा इस ओर विभाग का ध्यानाकर्षण कई बार कराया गया था। शिकायत के बावजूद बिजली विभाग का ध्यान इस ओर नहीं गया। आग लगने से मणि सिंह, बलिराम सिंह, सुरेश सिंह, मुकेश कुमार व राम जन्म सिंह सहित एक दर्जन किसानों की गेहूं जल गया। पछुआ हवा के कारण झूलता हुआ बिजली का तार का आपस में टकराने से उठी चिगारी खेत में गिरने से फसल में आग पकड़ लिया। एक तो दो पहर का समय दूसरा पछुआ हवा के कारण देखते- देखते आग तेजी से फैलती चली गई। आग की उठती लपटों की खबर गांव तक पहुंची तो ग्रामीण वहां पहुंचे और आग पर काबू पाने के प्रयास में जुट गए। जिला पार्षद विरेंद्र सिंह ने आग लगने की सूचना थाना व फायर ब्रिगेड नवादा को दिया। फायर बिग्रेड के पहुंचने तक ग्रामीण जान जोखिम में डालकर लाठी-डंडा के सहारे आग पर नियंत्रण करने का प्रयास करते रहे। करीब तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। ग्रामीणों द्वारा आग पर काबू पाए जाने के बाद नवादा व नरहट थाना से दमकल पहुंची। पीड़ित किसान बलराम सिंह, सुरेश सिंह, मुकेश कुमार, मणि सिंह व रामजन्म सिंह ने बताया कि बिजली विभाग की लापरवाही से इतना बड़ा नुकसान हुआ। मुआवजा के लिए बिजली विभाग पर प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। बिजली विभाग की लापरवाही से लगी आग

- ग्राीमण सह जिला पार्षद विरेंद्र सिंह ने बताया कि बिजली विभाग की लापरवाही से किसानों को इतना बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है। उन्होंने कहा कि बिजली तार खींचने के क्रम में लापरवाही हुई। खेतों के उपर से गुजरी तार नीचे झूल रही थी। झूलते तार के आपस में टकराने से घटना हुई। दमकल आने में भी हुआ विलंब

-दमकल आने में विलंब से आग तेजी से फैल गया। देखते- देखते ही 25-30 बिगहा गेहूं जल गया। ग्रामीणों ने कहा कि समय से दमकल पहुंच जाने पर इतना बड़ा नुकसान नहीं होता।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप