प्रखंड के कोनिबर ग्राम कचहरी सरपंच 50 वर्षीया बादाम देवी का निधन हो गया। डेंगू से पीड़ित सरपंच का इलाज सेंट्रल हॉस्पिटल पटना में चल रहा था। जहां सोमवार की रात उनका निधन हुआ। मृतका के पति शिक्षक नरेश पंडित ने बताया कि 15 अक्टूबर को बुखार लगने पर स्थानीय डॉक्टर से इलाज कराया। बाद में बेहतर इलाज के लिए 19 अक्टूबर को नवादा में डॉ. बीके शर्मा के पास ले गए। वहां एक दिन भर्ती रहने के बाद अगले दिन 20 अक्टूबर को पावापुरी मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। पावापुरी अस्पताल में जांच में डेंगू होने की बात कह पीएमसीएच पटना रेफर कर दिया। पीएमसीएच में जाने के बाद वहां काफी भीड़ थी। मरीज की स्थिति गंभीर देखते हुए पीएमसीएच से सेंट्रल अस्पताल पटना में भर्ती कराया। जहां उन्होंने अंतिम सांसे ली। सरपंच के निधन की जानकारी के बाद कोनिबर पंचायत समेत प्रखंड क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। मंगलवार सुबह शव को कोनिबर गांव आते ही कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा था।

----------------

सांत्वना देने लोगों की उमड़ी भीड़

- सरपंच के निधन की खबर के बाद सांत्वना देने वाले लोगों की भीड़ लग गई। पंच-सरपंच संघ सह जिला प्रवक्ता मनीष कुमार रंजन, कोनिबर पंचायत की मुखिया प्रेमन गुप्ता, खनवां मुखिया शंकर रजक, खनवां सरपंच रणजीत राम, पुनौल सरपंच अम्बिका राम, कोनिबर पैक्स अध्यक्ष कमलेश कुमार, जमुआरा उपसरपंच प्रतिनिधि अनुज कुमार, समाज सेवी विवेकानंद, वार्ड सदस्य अमिताभ कुमार, पतरौल वार्ड सदस्य नंद किशोर प्रसाद, बभनौर के आनंदी सिंह समेत काफी संख्या में लोग पहुंचे और शोक संतप्त परिजनों से मिलकर ढांढस बंधाया। पंच-सरपंच संघ ने गहरा शोक जताते हुए प्रशासन से परिवार को मिलने वाला सरकारी लाभ जल्द उपलब्ध कराने की मांग की। समाज सेवियों ने प्रखंड में डेंगू के दस्तक पर चिता जताते हुए बचाव के लिए प्रशासन से आवश्यक कदम उठाने की मांग की है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप