नालंदा । पिछले एक पखवारा से जिले में पड़ रही भीषण से लोगों का जीना मुहाल हो गया है। सुबह के धूप निकलते ही सूर्य की धूप से आग बरसने लगता है। शरीर को जला देने वाली इस भीषण गर्मी से लोगों की दिनचर्या बदल गई है। सोमवार को पारा 42 के पार रिकार्ड किया गया। मौनसून आने के बावजूद बारिश नहीं होने से एक ओर जहां किसानों में मायूसी छाई है वहीं आम जनता इस गर्मी की वजह से बेहाल हो रहा है। सबसे ज्यादा परेशानी रोजमर्रा की ¨जदगी जीने वाले लोगों के समक्ष देखी जाती है। पसीना से लतपत होकर रिक्शा-ठेला वाले मजबूरी में अपना व परिवार का पेट पालने के लिए किसी तरह कड़ी धूप में भी पसीने बहाते देखे जाते हैं। वहीं हाईस्कूल व कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। धूप व गर्मी के कारण पेयजल, कोल्ड ¨ड्रक्स व जूस की मांग बढ़ गई है। जूस से प्यास बुझाने वालों की अच्छी भीड़ देखी जा रही है। इधर तेज धूप व शरीर को जला देने वाली गर्मी के कारण 11 बजे के बाद से ही सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता है। हर कोई धूप में जल्दी से काम निपटा कर घर जाने की जुगत में लगे रहते हैं। गर्मी के कारण घरों में भी लोगों को चैन नहीं मिल रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप