नालंदा, जेएनएन। इसी साल 27 सितंबर की रात सोहसराय थाना क्षेत्र के आशानगर मोहल्ले में बदमाशों की गोली से घायल किराना दुकानदार की गुरुवार को देर रात इलाज के दौरान कोलकाता में मौत हो हो गई। आशानगर मोहल्ले में रहने वाले दुकानदार शिशुपाल की मौत की सूचना मिलते ही आक्रोशित लोगों ने बिहारशरीफ-पटना मुख्य मार्ग को जाम कर दिया है। सड़क जाम से यातायात पूरी तरह ठप हो गया और सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। जाम में करीब तीन घंटे तक निजी वाहनों के साथ-साथ स्कूली बसें भी फंसी रहीं। जाम के चलते यात्रियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

गुस्साए लोग आगजनी कर सड़क जामकर मुआवजे की मांग कर रहे थे। सूचना मिलते ही डीएसपी इमरान परवेज़ व थानाध्यक्ष विजेंद्र सिंह मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाकर जाम खत्म कराया। परिजन ने इस मामले में शामिल चारों अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

दुकान में घुसकर मारी थी गोली

बता दें कि घटना के दूसरे दिन ही सोहसराय थाना पुलिस ने आशानगर के धोबी टोला में छापेमारी कर दुकानदार को गोली मारने के आरोपी नीतीश कुमार और उसके भाई नंदन पासवान को गिरफ्तार कर लिया था। जिसमें नंदलाल चार दिन पहले ही जेल से छूटकर वापस आया है। घटना की रात बदमाशों ने किराना दुकान में घुसकर शिशुपाल को दो गोलियां मारकर जख्मी कर दिया था। इसके बाद उसे पटना रेफर कर दिया गया था। जहां से उसे कोलकाता रेफर कर दिया गया। गुरुवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

बाइक के विवाद में दिया घटना को अंजाम

थानाध्यक्ष ने बताया कि बाइक के विवाद में बदमाशों ने घटना को अंजाम दिया था। नंदन दुष्कर्म और उसका भाई वाहन चोरी के आरोप में पूर्व में जेल जा चुका है। घायल दुकानदार ने फर्द बयान में खुलासा किया था कि उसने कुछ दिन पहले अपनी बाइक पड़ोस के दोस्त नीतीश को दी थी। जब वे बाइक लौटाने आया तो दुकानदार ने बदमाशों को काफी भला बुरा कहा और एक कागज पर लिखवाया कि बाइक से अगर किसी तरह का उसने गैर कानूनी काम किया तो उसकी जिम्मेवारी नहीं होगी। इसी बात से गुस्साए भाइयों ने दुकान में घुसकर शिशुपाल को गोली मार दी थी। डीएसपी ने बताया कि सभी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस