मुजफ्फरपुर। लाखों खर्च के बावजूद कॉलेजों में वाई फाई सुविधा की योजना कारगर साबित नहीं हुई है। किसी भी कॉलेज में यह सही से काम नहीं कर रहा। यहां तक कि विवि कार्यालय में भी इसकी कनेक्टिविटी को लेकर समस्या है।

पिछले वर्ष मुख्यमंत्री ने कॉलेजों में वाई फाई सुविधा का ऑनलाइन उद्घाटन किया था। इसका उद्देश्य छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के दौरान वाई फाई से अपडेट करना था। लेकिन, एक साल से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी अब तक विवि के ही ज्यादातर पीजी विभागों में यह सुविधा काम नहीं कर रही है। कई विभागों में बिजली कनेक्शन की भी समस्या है। सबसे बड़ा सवाल

बीआरए बिहार विवि के सिर्फ अंगीभूत कॉलेजों में ही नहीं, बल्कि सम्बद्ध महाविद्यालयों में भी यह सुविधा अनिवार्य है। अब कॉलेजों में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू करने में इसका महत्व बढ़ गया है। वाई फाई चालू होने पर ही कॉलेजों में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन हो सकेगा। ये है समस्या

पिछले दिनों प्राचार्यो की बैठक में विवि के प्रशासनिक पदाधिकारियों ने इस मसले को उठाया था। उन्होंने बताया था कि कॉलेजों से इस मामले में सहयोग नहीं मिल रहा। अभी तक ज्यादातर कॉलेजों में वाई फाई चालू नहीं है, जहां चालू भी है वहां कई तरह की तकनीकी समस्याएं हैं। ऐसे में इस नई व्यवस्था को संचालित करना मुश्किल जान पड़ रहा है। मजे की बात तो यह है कि संबंधित एजेंसी भी कॉलेजों पर ही ढिलाई का ठीकरा फोड़ रही है। अब विवि प्रशासन इसके लिए एक बैठक बुलाने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। ताकि ऑनलाइन एडमिशन के लिए रजिस्ट्रेशन में समस्या न हो।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस