बेतिया (पचं), जासं। राज्य शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद द्वारा आयोजित राष्ट्रीय आय-सह-मेधा छात्रवृत्ति परीक्षा आगामी 27 फरवरी को होगी। यह परीक्षा आर्थिक रूप से कमजोर व मेधावी छात्र-छात्राओं के लिए है। छात्र-छात्राएं ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। आवेदन करने की प्रक्रिया शुरू है। परीक्षा में सफल होने वाले छात्र-छात्राओं को वर्ग- 9 वीं से लेकर 12 वीं तक की पढ़ाई के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार की तरफ से प्रति वर्ष 12 हजार रुपये छात्रवृत्ति दी जाएगी।

परीक्षा में वैसे छात्र-छात्रा भाग लेंगे जो 55 फीसद अंक के साथ कक्षा-7 की परीक्षा उत्तीर्ण हो तथा शैक्षणिक सत्र 2021-22 में राज्य सरकार के विद्यालय में कक्षा-8 में नामांकित होकर विधिवत रूप से अध्ययनरत हो। जिनके माता-पिता की सभी स्रोतों से कुल वार्षिक आय डेढ़ लाख तक होगी। 27 फरवरी को इसकी परीक्षा होगी। 15 जनवरी तक ऑनलाइन एप्लीकेशन पोर्टल पर विद्यालय का पंजीकरण होगा।

17 जनवरी तक पंजीकृत विद्यालय का एससीईआरटी द्वारा सत्यापन होगा। 23 जनवरी तक आवेदक पोर्टल पर पंजीयन एवं फार्म सबमिट करेंगे। वहीं डीईओ विनोद कुमार विमल ने बताया कि सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को इस पत्र के आलोक में निर्देशित कर दिया गया है। वे अपने प्रखंड अंतर्गत सभी मध्य विद्यालय एवं उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक को अपने स्तर से पंजीयन कराने तथा अधिक से अधिक वर्ग 8 वीं के छात्र-छात्राओं का राष्ट्रीय आय सह मेधा छात्रवृत्ति परीक्षा का ससमय आवेदन कराएं।

आवेदक 10 मार्च तक दर्ज करा सकेंगे आपत्ति

25 जनवरी तक विद्यालय स्तर पर ऑनलाइन एप्लीकेशन का अप्रूवल किया जाएगा। 17 से 27 फरवरी तक ऑनलाइन प्रवेश पत्र आवेदक प्राप्त कर सकेंगे। दो मार्च को उत्तर कुंजी पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। 10 मार्च तक आवेदकों को आपत्ति दर्ज करने का समय दिया जाएगा। राज्य शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद् के प्रभारी निदेशक विजय कुमार हिमांशु ने कहा है कि इस योजना के अंतर्गत सभी राजकीय, मान्यता प्राप्त अनुदानित मदरसा एवं संस्कृत विद्यालयों के छात्र-छात्राएं आवेदन कर सकते है। परीक्षा के लिए आवेदकों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

17 से 27 फरवरी तक ऑनलाइन मिलेगा प्रवेश पत्र

17 फरवरी से 27 फरवरी के बीच ऑनलाइन प्रवेश पत्र प्राप्त किया जाएगा। परीक्षा 27 फरवरी को होगी। परीक्षा में प्रश्न राज्य सरकार के विद्यालयों में वर्ग आठ में पढ़ाए जाने वाले विषयों पर आधारित होगा। यह परीक्षा दो पालियों में होगी।मानसिक योग्यता परीक्षा के लिए 90 और शैक्षिक योग्यता परीक्षा के लिए भी 90 प्रश्न रहेंगे।

प्रतिभावान विद्यार्थियों का पता लगाना है मूल उद्देश्य

राज्य शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद द्वारा आयोजित राष्ट्रीय आय-सह-मेधा छात्रवृत्ति योजना परीक्षा का मूल उद्देश्य प्रतिभावान विद्यार्थियों का पता लगाना है। आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को मदद करना है। प्रतिभावान बच्चों को अपनी सफलता हासिल करने में किसी प्रकार की कोई आर्थिक समस्या नहीं आए।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh